×

वित्त मंत्री जेटली बोले-किसी भी फ्रॉड में नियामक जिम्मेवार क्यों नहीं होते?

aman

amanBy aman

Published on 24 Feb 2018 8:25 AM GMT

वित्त मंत्री जेटली बोले-किसी भी फ्रॉड में नियामक जिम्मेवार क्यों नहीं होते?
X
वित्त मंत्री जेटली बोले-किसी भी फ्रॉड में नियामक जिम्मेवार क्यों नहीं होते?
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के महाघोटाले को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार (24 फरवरी) को बैंक के शीर्ष प्रबंधन को कठघरे में खड़ा किया। कहा, कि 'अगर एक फर्जीवाड़ा बैंकिंग व्यवस्था की कई शाखाओं में होता है और कोई भी इसके खिलाफ न तो आवाज उठाता है और न ही जानकारी देता है, तो यह एक चिंताजनक स्थिति है।'

'ग्लोबल बिजनेस समिट' में अरुण जेटली ने कहा, कि 'ऐसे घपलों में शीर्ष प्रबंधन की उदासीन और परत-दर-परत ऑडिटिंग सिस्टम की व्यवस्था बेहद चिंता पैदा करते हैं।' उन्होंने यह भी कहा, कि भारत में किसी भी मामले में राजनीतिज्ञ की जवाबदेही तो होती है, लेकिन नियामकों (रेगुलेटर्स) की कोई जवाबदेही नहीं होती। जबकि हकीकत यह है कि नियमों से जुड़े फैसले नियामक ही लेते हैं, लिहाजा इनको अपनी तीसरी आंख हमेशा खोलकर रखना चाहिए।'

ये भी पढ़ें ...अब OBC में 390 करोड़ का घोटाला, CBI ने किया केस दर्ज

ऐसे तो कारोबार आसान बनाने की कोशिशें पीछे रह जाएंगी

वित्त मंत्री ने विलफुल डिफॉल्ट को बिजनेस में विफलता और बैंक फ्रॉड से भी ज्यादा गंभीर घटना करार दिया। कहा, कि 'अगर समय-समय पर विलफुल डिफॉल्ट और बैंक फ्रॉड होते रहे, तो कारोबार को आसान बनाने की सारी कोशिश पीछे ही रह जाएंगी और ऐसी परेशानियां आगे आ जाएंगी। उन्होंने देश की अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने की कई योजनाओं पर भी अपनी बात रखी।'

चुनाव खर्च पर ये कहा

चुनाव पर खर्च के सवाल पर जेटली ने कहा, कि 'देश में हर साल दो से तीन चुनाव कराना प्रशासन और खर्च के नजरिए से बेहद चुनौतीपूर्ण हैं। अगर देश में पांच साल में एक बार चुनाव हों, तो केंद्र और राज्य की शासन व्यवस्था बेहतर करने में मदद मिलेगी। साथ ही खर्च में कमी लाई जा सकेगी और मजबूत नीतियां बनाई जा सकेंगी।'

ये भी पढ़ें ...#PNB SCAM: गीतांजलि समूह की 1,200 करोड़ रुपये की संपत्तियां कुर्क

कर्ज लेने-देने वाले के गठजोड़ को खत्म करना जरूरी

अरुण जेटली से जब पूछा गया, कि बैंकिंग फ्रॉड की घटनाओं को रोकने का सबसे कारगर उपाय क्या है? तो उन्होंने कहा, कि 'कर्ज लेने और देने वाले के अनैतिक व्यवहार और गठजोड़ को खत्म करने की जरूरत है।'

पीएम ने भी दिया था जवाब

इससे पहले पीएम नरेन्द्र मोदी ने पीएनबी महाघोटाले पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा था, कि 'उनकी सरकार देश में आर्थिक अनियमितताओं के खिलाफ सख्त कदम उठा रही है और आगे भी उठाएगी।' पीएम मोदी ने वित्तीय संस्थानों को और अधिक निष्ठा के साथ निगरानी का दायित्व निभाने की नसीहत भी दी। पीएम मोदी ने कहा कि जिन वित्तीय संस्थानों को निगरानी और मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी सौंपी गई है, वह पूरी ईमानदारी के साथ अपनी ज़िम्मेदारी निभाएं।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story