आर्थिक सर्जिकल स्ट्राइक: जीएसटी लॉन्च कर PM मोदी ने की चीन पर गंभीर चोट

भारत में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू होने के बाद दुनिया के बाज़ार अपनी-अपनी समीक्षा करने में जुट गए हैं। विश्व बाज़ार के जानकारों का मानना है कि भारत का यह कदम चीन के लिए जैसा है। इस जीएसटी के बाद भारत में चीन का व्यवसाय काफी प्रभावित होगा और चीनी माल की खपत बहुत नीचे आ जाएगी।

बड़ी राहत : अब GST से पहले का सामान बेचने की डेडलाइन 31 दिसंबर

बड़ी राहत : अब GST से पहले का सामान बेचने की डेडलाइन 31 दिसंबर

लखनऊ: भारत में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू होने के बाद दुनिया के बाज़ार अपनी-अपनी समीक्षा करने में जुट गए हैं। विश्व बाज़ार के जानकारों का मानना है कि भारत का यह कदम चीन के लिए आर्थिक सर्जिकल स्ट्राइक जैसा है। इस जीएसटी के बाद भारत में चीन का व्यवसाय काफी प्रभावित होगा और चीनी माल की खपत बहुत नीचे आ जाएगी।

यह भी पढ़ें … GST Full Report: जानिए किसपर कितना % GST रेट लागू, क्या हुआ सस्ता, किसके बढ़े दाम ?

चीन की अर्थव्यवस्था भी इससे काफी प्रभावित होने जा रही है। एक तरफ सामरिक मोर्चे पर चीन भारत को जहां घेरने की कोशिश कर रहा था वही जीएसटी के जरिये पीएम नरेंद्र मोदी ने उसको काफी गहरी चोट दे दी है।

यह भी पढ़ें … एक देश-एक टैक्स: संसद के ऐतिहासिक सत्र में लॉन्च हुआ GST

जानकारों का कहना है कि सिक्किम में भारत-चीन सीमा विवाद पर चीन अपने कड़े तेवर दिखा रहा है। चीनी सेना भी भारतीय सेना को अंजाम भुगतने की धमकी दे रही है। लेकिन दबाव में ना आते हुए पीएम मोदी ने चीन को अब तक की सबसे बड़ी चोट दे दी है। कल आधी रात को संसद के केंद्रीय हॉल में जीएसटी लॉन्च कर पीएम मोदी ने चीन की अर्थव्यवस्था पर ताला जड़ दिया है, जिससे चीन के होश उड़े हुए हैं।

महंगा हो जाएगा चीनी माल
दरअसल संसद के केंद्रीय हॉल में पीएम मोदी और राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने जीएसटी लॉन्च किया। इस तरह अब देशभर में 1 जुलाई से जीएसटी लागू हो गया। इससे ना केवल देश में काले कारोबार बंद करने की शुरुआत हो गई, बल्कि चीनी अर्थव्यवस्था को भी बड़ा झटका लगा है। जीएसटी द्वारा सरकार ने चीन से भारत में आयात होने वाली वस्तुओं पर टैक्स बढ़ा दिया है।

यह भी पढ़ें … नीति आयोग के सदस्य बिबेक देबरॉय बोले- मौजूदा GST में कई दरें मुख्य समस्या

यानी चीनी सामान की कीमत अब बढ़ जाएगी। थर्ड क्लास चीनी सामान को लोग सस्ता होने के कारण ही खरीद लेते थे, जिससे भारतीय उद्योग ठंडे पड़ गए थे। लेकिन अब चीनी सामान की कीमत बढ़ने के चलते लोग एक बार फिर से भारतीय सामान की ओर कूच करेंगे। इससे पीएम मोदी के मेक इन इंडिया अभियान को भी बढ़ावा मिलेगा।

चीनी लाइटें, झालरे, बल्ब, चीनी खिलौने हो जाएंगे महंगे
विदेशों में जमा भारत का पैसा जीएसटी लागू होने के बाद से भारत में वापस आने लगेगा। आइये जानते हैं कैसे पीएम मोदी ने जीएसटी लॉन्च कर चीन का खरबों रुपयों का नुकसान करते हुए चीन की कमर तोड़ दी।

यह भी पढ़ें … GST IMPACT: टेलिकॉम सेक्टर के लिए महंगा साबित हुआ GST, पोस्टपेड यूजर्स के लिए बढ़ा दाम

दीवाली पर चीन अपनी रंग-बिरंगी चीनी लाइटें, झालरे, बल्ब आदि सामान के जरिए हर साल अरबों रुपयों का व्यापार करता आ रहा था लेकिन अब ये सब चीन से मंगाना महंगा पड़ेगा। जिससे भारत में इसकी कीमतें बढ़ जाएंगी। जिसके कारण वो लोग जो पहले चीनी सामान की ओर रूचि रख उसकी खरीदारी करते थे, वो अब भारतीय सामान की ओर दोबारा से रुख करेंगे।

यह भी पढ़ें … अरुण जेटली बोले- GST लागू होने पर लोगों को अहसास होगा कि हम दो बार टैक्स क्यों दें

इसी तरह से खिलौना बाजार में भी चीन ने अपनी पैठ बना ली थी। जिस दूकान में देखो वहीँ चीनी खिलौने सजे रहते थे। अब चीनी खिलौनों पर भी लगाम लग जाएगी। कीमत बढ़ने से भारत के कोने-कोने में पहुंच चुके चीनी खिलौने भी महंगे हो जाएंगे। जिससे एक बार दोबारा से लोग भारतीय खिलौनों का रुख करने को मजबूर हो जाएंगे।


मोबाइल फोन बाजार चीन के लिए हमेशा के लिए बंद
जीएसटी लागू होने से चीन से भारत में सामान आयात करना महंगा हो जाएगा। इससे भारतीय बाजार में उन सामानों की डिमांड एक बार फिर से बढ़ जाएगी, जिसे चीनी सामान के आने के बाद लोगों ने खरीदना या तो बंद कर दिया था या फिर महंगा होने के कारण नहीं खरीद रहे थे।

यह भी पढ़ें … भारत की आर्थिक आजादी, देश भर में लागू हुआ गुड एंड सिंपल टैक्स

इसके अलावा चीन से इलेक्ट्रॉनिक्स सामान आयात करना भी महंगा हो जाएगा। जिससे मोबाइल फोन, एलईडी इत्यादि बाजार चीन के लिए हमेशा के लिए बंद हो जाएंगे। चीन से आने वाले सस्ते चीनी मोबाइल फोन, स्मार्ट फोन जो इंपोर्ट होते हैं वो महंगे हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें … GST: किसानों को राहत, उर्वरक पर 12 से घटकर 5 प्रतिशत हुआ टैक्स

एक तो चीनी मोबाईल, वो भी महंगा, तो भला भारत में कौन खरीदेगा उसे? ऐसे में लोग भारतीय मोबाइलों की तरफ रुख करेंगे। जिससे उनका बाजार गर्म होने की संभावना है और भारतीय व्यापारियों की मौज ही मौज हो जाएगी।