Top

गुजरात: मुस्लिमों को फिर 'सद्भावना मिशन' की तलाश, टिकट के लिए लाइन

aman

amanBy aman

Published on 31 Oct 2017 10:23 AM GMT

गुजरात: मुस्लिमों को फिर सद्भावना मिशन की तलाश, टिकट के लिए लाइन
X
गुजरात: मुस्लिमों को फिर 'सद्भावना मिशन' की तलाश, टिकट के लिए लगी लाइन
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अहमदाबाद: याद करें तो साल 2011 में गुजरात के तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी ने अपनी छवि बदलने लिए 'सद्भावना मिशन' की शुरुआत की थी। तब, इस मिशन का उद्देश्य मुस्लिमों को आकर्षित करना था। मुस्लिम भी बड़ी संख्या में उमड़े थे। हालांकि, अगले ही वर्ष यह मिशन फेल हो गया।

साल 2012 के चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने एक भी मुस्लिम प्रत्याशी को टिकट नहीं दिया। इस वाकये को 5 साल बीत चुके हैं। लेकिन पांच साल बाद मुस्लिम नेता एक बार फिर उसी 'सद्भावना' की तलाश में जुटे हैं। गौरतलब है, कि गुजरात में 1980 से अभी तक बीजेपी ने केवल एक बार (1998) ही मुस्लिम को टिकट दिया गया है।

ये भी पढ़ें ...Survey: हिमाचल में खिलेगा ‘कमल’, एक और राज्य से कांग्रेस का पत्ता साफ

स्थानीय निकाय चुनावों में जीते थे 350 मुस्लिम

बीजेपी के अल्पसंख्यक मोर्चा ने आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर कई सीटों की मांग की है। बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रभारी महबूब अली चिश्ती ने कहा, कि '2015 में हुए स्थानीय निकाय चुनावों में करीब 350 मुस्लिमों ने जीत दर्ज की थी। वे विधानसभा चुनावों में भी जीतने का दमखम रखते हैं।' इसी के तहत मुस्लिम नेताओं ने जमालपुर-खडिया, वागरा, वेजालपुर, भुज, वान्कानेर, अबदासा सीटों के लिए टिकट की मांग की है।

ये भी पढ़ें ...गुजरात चुनाव में आतंकवाद बम: BJP बोली- ‘कांग्रेस का हाथ-आतंक के साथ’

'मुझे बीजेपी में हमेशा सम्मान मिला'

बता दें, कि 61 फीसदी मुस्लिमों की आबादी वाली जमालपुर-खाडिया सीट के लिए बिल्डर उस्मान गांची ने आवेदन किया है। करीब दस साल से बीजेपी से जुड़े उस्मान के आवेदन पर 5 मौलवियों ने दस्तखत किए हैं। उन्होंने कहा, 'मुझे बीजेपी में हमेशा से सम्मान मिला। अगर मौका मिला तो मैं पार्टी के लिए सीट जीतूंगा। बीजेपी एक मजबूत काडर आधार वाली पार्टी है। इसकी नेतृत्व क्षमता कमाल।'

अगर बीजेपी ने मुझ पर भरोसा दिखाया तो...

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक इसी तरह की बातें पूर्व आईपीएस अधिकारी एआई सैय्यद ने भी कही। बोले, 'मैं पिछले 9 सालों से बीजेपी से जुड़ा हूं। अगर बीजेपी ने मुझ पर भरोसा दिखाया तो मैं निश्चित तौर पर चुनाव जीतूंगा।' ज्ञात हो, कि सैयद, गुजरात वक्फ बोर्ड के चैयरमैन रह चुके हैं।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story