×

ममता ने पेट्रोल व डीजल पर प्रति लीटर एक रु घटाया, केंद्र पर बनाया दबाव

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 11 Sep 2018 2:21 PM GMT

ममता ने पेट्रोल व डीजल पर प्रति लीटर एक रु घटाया, केंद्र पर बनाया दबाव
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कोलकाता : केंद्र से ईंधन कीमतों पर कर (सेस) कम करने का आग्रह करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को घोषणा की कि उनकी सरकार ने पेट्रोल व डीजल पर प्रति लीटर एक रुपये कर घटाने का फैसला किया है। ममता बनर्जी ने कहा, "हम केंद्र सरकार से पेट्रोल व डीजल पर सेस कम करने की मांग करते हैं। कच्चे तेल की कीमतें गिरी हैं, लेकिन वे मूल्य व सेस बढ़ा रहे हैं। ये दोनों चीजें एक साथ नहीं हो सकतीं। राज्य सरकार को सेस में कोई फायदा नहीं मिलता।"

पढ़िए कैसे सरकार करती है तेल का खेल : सरकार के खेल से लगती है पेट्रोल-डीजल में आग, 100 रुपए के लिए रहें तैयार !

ममता ने राज्य सचिवालय नबन्ना में कहा, "इस स्थिति में हमारी सरकार ने पेट्रोल-डीजल में एक रुपये प्रति लीटर कमी का फैसला किया है।"

उन्होंने कहा कि कुप्रबंधन जारी है।

ये भी देखें :सरकार ने इनके कहने पर मार्केट को सौंप दिया था पेट्रोल-डीजल, क्या फिर मानेंगे बात

ये भी देखें :पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इजाफा जारी, महाराष्ट्र में दाम 90 पार

ममता ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार द्वारा लगाए गए सेस में वृद्धि हुई है और ईंधन कीमतों में स्थिरता लाने के लिए कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है।

उन्होंने कहा, "जनवरी 2016 में पेट्रोल की कीमत 65.12 प्रति लीटर थी और सितंबर 2018 में मूल्य बढ़कर 81.5 रुपये प्रति लीटर हो गया है। इस तरह से पेट्रोल की कीमत 16.78 रुपये प्रति लीटर बढ़ गई है। डीजल की कीमत 2016 में 48.80 रुपये प्रति लीटर थी, अब यह 73.26 रुपये प्रति लीटर हो गई है, जिसमें 24.46 रुपये बढ़ोतरी हुई है।"

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story