×

51 साल की उम्र में हुआ जैनमुनि तरुण सागर का निधन, इन मुद्दों पर दिए थे विवादित बयान

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 1 Sep 2018 5:15 AM GMT

51 साल की उम्र में हुआ जैनमुनि तरुण सागर का निधन, इन मुद्दों पर दिए थे विवादित बयान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: दिल्ली के कृष्णा नगर में जैनमुनि तरुण सागर का 51 साल की उम्र में निधन हो गया। उन्होंने यहां अंतिम सांस ली। वहीं, शनिवार (1 सितंबर) को दिल्ली-मेरठ हाइवे के पास जैनमुनि तरुण सागर का अंतिम संस्कार किया जाएगा। बता दें, जैनमुनि तरुण सागर पीलिया से बीमार थे। इसलिए उनकी हालत काफी नाजुक थी।

यह भी पढ़ें: अफवाहों को करे इग्नोर, आज से पूरे हफ्ते खुले रहेंगे बैंक, ATM में भी मिलेगा पर्याप्त कैश

एक संत होने के साथ-साथ तरुण सागर राजनीति में दिलचस्पी रखते थे। यही एक कारण था कि वो देश-दुनिया के मुद्दों पर भी अपनी राय रखते थे। यही नहीं, इसके साथ वो देश की राजनीति में भी दखल रखते थे। वो कई बार विधानसभाओं में भाषण दे चुके हैं। मगर वो बात अलग है कि उनके बयानों को लेकर कई बार विवाद भी खड़े हुए हैं।

ट्रिपल तलाक पर दिया था विवादित बयान

जैनमुनि ने ट्रिपल तलाक पर हाल ही एक बयान दिया था। उन्होंने बीते 10 अगस्त को कहा था कि मुस्लिम महिलाओं के कल्याण के लिए काम करने वाले सभी लोग दिखावा कर रहे हैं। उन्होंने ये भी कहा था कि जो नेता या दल मुस्लिम महिलाओं के हक़ के लिए लड़ रहे हैं, वो वास्तव में इस मुद्दे को लेकर राजनीति कर रहे हैं।

लव जिहाद जैसे मुद्दे पर भी दिया था विवादित बयान

जैनमुनि ने लव जिहाद जैसे बड़े विवादित मुद्दे पर भी अपनी राय रखी। उन्होंने कहा था कि अगर मुस्लिम लड़कों को रोका नहीं गया नहीं तो भारत को दूसरा पाकिस्तान बनने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा। उन्होंने ये भी कहा था कि मुस्लिम लड़के साजिश के तहत हिंदू लड़कियों से झूठे प्यार का नाटक करके उनके मुस्लिम बना लेते हैं।

मुस्लिम आबादी को देश के लिए बताया था खतरा

लव जिहाद और ट्रिपल तलाक के बाद जैनमुनि ने मुस्लिम आबादी को लेकर भी विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि लगातार बढ़ती मुस्लिम आबादी देश के लिए खतरा है।

आरक्षण के खिलाफ भी दिया था बयान

जैनमुनि तरुण सागर आरक्षण के भी खिलाफ थे। उनका सीधा सा कहना था कि आरक्षण योग्यता एवं पात्रता के आधार पर ही मिलना चाहिए।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story