×

मालामाल पार्टियां : BJP की संपत्ति 627% बढ़ी, जानिए अन्य का हाल

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस समेत 7 राष्ट्रीय पार्टियों की संपत्ति में वित्त वर्ष 2004-05 से 2015-16 के बीच 530% की बढ़ोतरी हुई है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 16 Oct 2017 10:17 PM GMT

मालामाल पार्टियां : BJP की संपत्ति 627% बढ़ी, जानिए अन्य का हाल
X
मालामाल पॉलिटिकल पार्टियां, BJP की संपत्ति 627% बढ़ी, जानिए अन्य का हाल
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस समेत 7 राष्ट्रीय पार्टियों की संपत्ति में वित्त वर्ष 2004-05 से 2015-16 के बीच 530% की बढ़ोतरी हुई है। यह खुलासा एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की एक रिपोर्ट में हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस दौरान बीजेपी की संपत्ति 122.93 करोड़ रुपए से बढ़कर 893.88 करोड़ रुपए और कांग्रेस की संपत्ति 167.35 करोड़ से बढ़कर 758.79 करोड़ रुपए हो गई।

एडीआर ने ‘Analysis of Assets & Liabilities of National Parties – FY 2004-05 to 2015-16’ शीर्षक से एक रिपोर्ट पेश की है।

जिसमें बीजेपी, कांग्रेस, एनसीपी, बीएसपी, सीपीआई, सीपीआई-एम और तृणमूल कांग्रेस की संपत्ति का हिसाब दिया गया है। इन सभी पार्टियों की संपत्ति में पिछले 10 सालों में करीब 530 प्रतिशत की बढोत्तरी हुई है।

यह भी पढ़ें ... ADR रिपोर्ट: चुनावी चंदा बटोरने में BJP अव्वल, 2014 में मिला सबसे ज्यादा

बीते 10 सालों में सात बड़े राष्ट्रीय दलों की कुल संपत्ति 530 फीसदी बढ़ गई है। 2004-05 में इन राजनैतिक दलों की औसत संपत्ति 61.62 करोड़ थी, जो 2015-16 में 388.45 करोड़ रुपए हो गई।

सबसे ज्यादा इजाफा बीजेपी की संपत्ति में हुआ। 2004-05 में बीजेपी के पास 122.93 करोड़ रुपए थे, जो 2015-16 में 893.88 करोड़ हो गया यानी 627.15% की बढ़ोतरी हुई। इस दौरान कांग्रेस की संपत्ति भी 167.35 करोड़ से बढ़कर 758.79 करोड़ तक पहुंच गई यानी करीब 353 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

एडीआर रिपोर्ट को डिटेल में जानने के लिए यहां क्लिक करें ...

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story