×

हिंदुत्ववादी नेता संभाजी को मुंबई में बोलने की इजाजत नहीं

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 5 Jan 2018 5:03 PM GMT

हिंदुत्ववादी नेता संभाजी को मुंबई में बोलने की इजाजत नहीं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मुंबई : मुंबई पुलिस ने शुक्रवार को हिंदुत्ववादी नेता एवं श्री शिव प्रतिष्ठान के प्रमुख संभाजी वी. भिडे को व्याख्यान की अनुमति देने से मना कर दिया। दो दिन पहले पुलिस ने गुजरात के दलित विधायक जिग्नेश मेवानी और जेएनयू के छात्र नेता उमर खालिद के कार्यक्रम को अनुमति नहीं दी थी।

भिडे का कार्यक्रम पहली जनवरी को कोरेगांव-भीमा दंगा और तीन जनवरी के महाराष्ट्र बंद के मद्देनदर रविवार को लालबाग में व्याख्यान देने का था।

प्रतिष्ठान के प्रवक्ता बलवंत दल्वी ने यहां कहा, "हाल के दिनों के घटनाक्रम और इनमें जिस तरह भिडे गुरुजी का नाम जोड़ा गया, उसके संदर्भ में हमने किसी और अशांति से बचने के लिए व्याख्यान को स्थगित करने का फैसला किया है।"

इससे पहले शुक्रवार को भिडे ने हिंसा में उनका हाथ होने के आरोपों को खारिज करते हुए इन्हें आधारहीन बताया। उन्होंने महाराष्ट्र सरकार से मामले की विस्तृत जांत कराने की मांग की।

ये भी देखें :कहां रुकोगे ! आज कोरेगांव की जीत का बवाल, कल खिलजी फिर जयचंद…

उन्होंने अपनी खामोशी भारिपा बहुजन महासंघ के नेता प्रकाश अंबेडकर द्वारा उन पर लगाए इस आरोप के बाद तोड़ी जिसमें कहा गया था कि कोरेगांव-भीमा की हिंसा को उन्होंने (भिडे ने) भड़काया था।

भिडे ने कहा, "मेरे खिलाफ प्रकाश अंबेडकर के आरोप पूरी तरह से निराधार हैं। मेरा सरकार से अनुरोध है कि वह मामले की गहन जांच कराए और दोषियों को सजा दे। अगर मैं दोषी पाया जाता हूं तो मैं नतीजा भुगतने के लिए तैयार हूं।"

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व सदस्य व विवादास्पद दक्षिणपंथी नेता भिडे (87) ने अंबेडकर के उस आरोप को भी खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि भिडे कोरेगांव-भीमा के पास मौजूद थे। उन्होंने जातीय दंगों के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराए जाने को 'फर्जी' करार दिया और कहा कि उनका नाम मामले में जान बूझकर घसीटा जा रहा है।

1 जनवरी को कोरेगांव-भीमा की हिंसा में एक युवक की मौत हुई थी।

ये भी देखें : प्रवीण तोगड़िया का दावा कोई बड़ा बीजेपी नेता रच रहा साजिश

2 जनवरी को पुलिस ने भिडे और हिंदू एकता समिति के मिलिंद एकबोते के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट और भारतीय दंड संहिता के तहत मामला दर्ज किया।

इस पर भिडे ने कहा कि एससी-एसटी कानून का कई मामलों में दुरुपयोग हुआ है।

प्रकाश अंबेडकर लगातार भिडे और मिलिंद की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story