×

शुक्रिया गुजरात, सरकार की समझदारी अंकुरित होने में लगे 4 महीने : चिदंबरम

पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री और कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने शनिवार को सरकार पर जीएसटी के अंतर्गत आने वाले कुछ वस्तुओं के टैक्स दायरे को घटाने को लेकर निशाना साधा।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 11 Nov 2017 12:13 PM GMT

शुक्रिया गुजरात, सरकार की समझदारी अंकुरित होने में लगे 4 महीने : चिदंबरम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री और कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने शनिवार को सरकार पर जीएसटी के अंतर्गत आने वाले कुछ वस्तुओं के टैक्स दायरे को घटाने को लेकर निशाना साधा। गौरतलब है कि कांग्रेस ने मोदी के गृहराज्य गुजरात के विधानसभा चुनाव में जीएसटी और नोटबंदी को ही मुद्दा बनाया है. ऐसे में मोदी सरकार की ओर से जीएसटी की दरों में कटौती को अहम माना जा रहा है।

चिदंबरम ने कहा कि समझदारी का बीज अंकुरित होने, फूल बनने और उसके बाद फल के रूप में पकने में चार महीने का समय लग गया। चिदंबरम ने एक ट्वीट में सरकार पर तंज कसते हुए कहा, "वित्त मंत्रालय की इस बात के लिए तारीफ होनी चाहिए कि उसने देश की सूक्ष्म अर्थव्यवस्था में 'सुधार' करने में चार महीने 10 दिन का समय लगाया।"

यह भी पढ़ें ... क्या पी. चिदंबरम को पत्र लिखकर सोनिया ने की थी ‘तहलका’ की मदद?

कांग्रेस नेता ने एक और ट्वीट कर कहा, "सरकार की बुद्धिमत्ता का अंकुर फूटने, फूल बनने और उसके बाद पका हुआ फल बनने में चार माह 10 दिन का समय लग गया।"

पी. चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा कि "शुक्रिया गुजरात। जो काम संसद और कॉमन सेंस से नहीं हो सका वो वहां होने वाले चुनावों ने करा लिया। पूर्व वित्तमंत्री ने यह बयान ऐसे समय दिया है, जब एक दिन पहले ही जीएसटी परिषद ने संशोधन करते हुए 28 प्रतिशत कर दायरे से 178 वस्तुओं को हटाने का फैसला लिया है।

यह भी पढ़ें ... दे दना दन ! J&K पर दिए चिदंबरम के बयान के बाद BJP-CONGRESS में घमासान

पी चिदंबरम ने एक के बाद एक किए ये ट्वीट

मोदी सरकार के इस कदम से कांग्रेस दोषमुक्त हुई। मैं दोषमुक्त हुआ। अब जीएसटी के 18 फीसदी स्लैब को मंजूरी मिल गई। अगर सरकार कई चीजों पर 28% से घटाकर 18% टैक्स कर रही है तो साफ है कि उसने देर से ही सही लेकिन सबक तो ले लिया। सरकार जीएसटी बिल पर राज्यसभा में डिबेट और वोटिंग पर बचती रही। लेकिन, अब वे पब्लिक डोमेन में बहस से नहीं बच सकते। कांग्रेस शासित राज्यों के फाइनेंस मिनिस्टर्स ने जीएसटी काउंसिल की मीटिंग में टैक्स स्लैब में बदलाव की बात रखी। आगरा, सूरत, तिरुपुर और दूसरे बिजनेस हब इस बात को देख रहे हैं। कांग्रेस पार्टी का अगला मकसद एक टैक्स रेट करना रहेगा।

अगली स्लाइड में पढ़िए चिदंबरम के ट्वीट



















tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story