×

अपने पीछे कितनी संपत्ति छोड़ गए हैं अटल बिहारी वाजपेयी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 19 Aug 2018 11:56 AM GMT

अपने पीछे कितनी संपत्ति छोड़ गए हैं अटल बिहारी वाजपेयी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का बीते गुरूवार को नई दिल्‍ली स्थित एम्‍स में निधन हो गया था। इसके बाद शुक्रवार को उन्‍हें पूरे राजकीय सम्‍मान के साथ राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम नरेंद्र मोदी समेत अनेकों शख्सियतों ने अंतिम विदाई दी।

ये भी देखें : यूपी में अब अटल नगर जिले की मांग, बटेश्‍वर से लखनऊ तक शुरू साइकिल यात्रा

कितनी संपत्ति छोड़ गए अटल जी

वर्ष 2004 के लोकसभा इलेक्शन में अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने हलफनामे में बताया था कि चल संपत्ति 30,99,232.41 रुपए की थी। पूर्व पीएम के तौर पर उन्हें 20,000 की मासिक पेंशन और सचिव के लिए 6000 रुपये का ऑफिस खर्च मिलता था।

शपथ पत्र के मुताबिक दिल्ली के ईस्ट ऑफ कैलाश में फ्लैट नं0 509 है। जिसकी उस समय 22 लाख रुपए कीमत थी। पैतृक निवास शिंदे की छावनी कमल सिंह का बाग की कीमत 6 लाख रुपए थी। इस तरह अचल संपत्ति 28,00,000 रुपए थी।

ये भी देखें : हरिद्वार में शुरू हुई अटल की अस्थि विसर्जन यात्रा, शाह-राजनाथ भी मौजूद

वसीयत नहीं आई सामने

अटल जी की कोई वसीयत अभी सामने नहीं आई है लेकिन यदि कानून की बात करें तो वर्ष 2005 संशोधित हिन्दू उत्तराधिकार कानून के मुताबिक संपत्ति उनकी दत्तक पुत्री नमिता और दामाद रंजन भट्टाचार्य को मिल सकती है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story