×

ममता-राज्यपाल विवाद में राजनाथ सिंह का हताक्षेप, मतभेद सुलझाने की दी सलाह

aman

amanBy aman

Published on 5 July 2017 2:34 PM GMT

ममता-राज्यपाल विवाद में राजनाथ सिंह का हताक्षेप, मतभेद सुलझाने की दी सलाह
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में भड़की सांप्रदायिक हिंसा के मुद्दे पर वहां के गवर्नर केशरी नाथ त्रिपाठी और सीएम ममता बनर्जी के बीच हुए मतभेद सार्वजनिक होने के बाद केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने हस्तक्षेप किया। राजनाथ ने बुधवार (05 जुलाई) को दोनों से अलग-अलग फोन पर बात की। सूत्रों ने बताया, कि राजनाथ सिंह ने दोनों नेताओं को बातचीत के जरिए आपसी मतभेद सुलझाने की सलाह दी है।

बता दें, कि एक आपत्तिजनक फेसबुक पोस्ट की वजह से उत्तर 24 परगना जिले में भड़की हिंसा और हालात पर नियंत्रण के लिए उठाए गए कदमों के बारे में केंद्र ने राज्य सरकार से एक विस्तृत रिपोर्ट मांगी है।

ये भी पढ़ें...ममता बनर्जी के ‘धमकाने’ के आरोपों को गवर्नर त्रिपाठी ने किया खारिज

मौजूदा हालात का लिया जायजा

राजनाथ सिंह ने फोन पर हुए बातचीत के दौरान भी हिंसाग्रस्त क्षेत्र की मौजूदा स्थिति की जानकारी ली। समझा जाता है कि फोन पर बातचीत के दौरान राज्यपाल और सीएम ने गृहमंत्री के सामने अपना पक्ष रखा। इस पर उन्होंने अपने मतभेद सुलझाने की सलाह दी।

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर ...

ममता ने गवर्नर पर की थी आरोपों की बौछार

गौरतलब है, कि सांप्रदायिक हिंसा के मुद्दे पर सीएम ममता बनर्जी ने मंगलवार को राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी पर आरोपों की बौछार की थी। उन्होंने गवर्नर पर फोन पर धमकी देने और अपमानित करने का आरोप लगाया था। उन्होंने राज्यपाल पर बीजेपी के ब्लॉक अध्यक्ष की तरह काम करने का भी आरोप लगाया था।

राजभवन ने जारी किया था बयान

दूसरी ओर, ममता के इस हमले के बाद राजभवन से जारी एक बयान में राज्यपाल ने ममता के आरोपों पर आश्चर्य जताते हुए उसका खंडन किया था। बयान में कहा गया था, कि 'राज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच की बातचीत गोपनीय होती है। किसी से भी इसका खुलासा करने की उम्मीद नहीं की जाती।'

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story