×

जया बच्चन क्या अब ममता की होंगी? अखिलेश यादव का छूटेगा साथ

aman

amanBy aman

Published on 19 Feb 2018 8:49 AM GMT

जया बच्चन क्या अब ममता की होंगी? अखिलेश यादव का छूटेगा साथ
X
जया बच्चन क्या अब ममता की होंगी? अखिलेश यादव का छूटेगा साथ
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: फिल्म अभिनेत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) की राज्यसभा में पार्टी का चेहरा जया बच्चन अब तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर उच्च सदन में जा सकती हैं। उनका राज्यसभा का मौजूदा कार्यकाल 3 अप्रैल को खत्म हो रहा है। समाजवादी पार्टी की सांसद रहते हुए उन्हें 2005 में लाभ के दोहरे पद के कारण इस्तीफा भी देना पड़ा था। वो सांसद रहते हुए यूपी फिल्म विकास बोर्ड की अध्यक्ष भी रही थीं। इसीलिए उन्हें अपनी सदस्यता गंवानी पड़ी थी।

तृणमूल कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता के अनुसार, जया बच्चन पार्टी की ओर से टिकट पाने वालों की दौड़ में सबसे आगे चल रही हैं, लेकिन इस बारे में अंतिम फैसला पार्टी अध्यक्ष ममता बनर्जी को करना है। उनकी मंजूरी के बाद ही जया बच्चन के नाम की घोषणा की जाएगी।

इस साल 58 सांसदों का खत्म हो रहा कार्यकाल

इस साल अप्रैल में राज्यसभा के 58 सांसदों का कार्यकाल खत्म हो रहा है। इसमें यूपी से 10 सीटें खाली होने जा रही हैं। इन सीटों पर ज्यादातर बीजेपी उम्मीदवार राज्यसभा में पहुंचेंगे। बीजेपी ने पिछले साल हुए विधानसभा चुनावों में 403 में से 312 सीटें जीती थीं।

सपा के टिकट पर जया का राज्यसभा का जाना मुश्किल

समाजवादी पार्टी को राज्यसभा की एक ही सीट मिल सकती है। ऐसे में यूपी से सपा के टिकट पर जया बच्चन का राज्यसभा का जाना मुश्किल दिखाई देता है। टीएमसी के सूत्रों के अनुसार, पिछले साल यूपी विधानसभा के नतीजे आने के बाद से ही जया बच्चन ने ममता बनर्जी के पास अपनी भावनाएं पहुंचानी शुरू कर दी थीं। तृणमूल कांग्रेस के एक और नेता का कहना है, 'हमारे चार सांसदों की सीटें खाली हो रही हैं। इसके लिए काफी उम्मीदवार भी सामने आ रहे हैं। पार्टी कम से कम कम दो नए चेहरे को प्रत्याशी बनाना चाहती है। ऐसे में जया बच्चन को सामने किया जा सकता है। तृणमूल नेता का कहना है कि जया बच्चन की पश्चिम बंगाल में काफी लोकप्रियता है और उनके बंगाली होने की वजह से उनकी दावेदारी में दम भी है। यही नहीं, उनके पति अमिताभ बच्चन भी अक्सर खुद को बंगाल का जमाई बाबू बताते रहते हैं।

तब ममता के लिए आगे आईं थी जया

पिछले साल अप्रैल में बीजेपी के एक युवा कार्यकर्ता ने ममता बनर्जी के सिर पर 11 लाख रुपए का इनाम घोषित कर दिया था। तब जया बच्चन आगे आईं और बीजेपी को निशाने पर लिया था। उन्होंने कहा था 'आप गाय को तो बचा सकते हैं, पर अत्याचार झेल रही महिलाओं को नहीं।' जया और अमिताभ बच्चन कोलकाता फिल्म फेस्टिवल में नियमित तौर पर जाते रहते हैं। 2017 में हुए इस फेस्टिवल में अमिताभ बच्चन लगातार चौथी बार मुख्य अतिथि बने थे। इससे भी ये जाहिर होता है कि जया बच्चन और ममता बनर्जी के बीच अच्छे संबंध हैं।

जया की दावेदारी मजबूत

तृणमूल कांग्रेस के चार राज्यसभा सांसदों का कार्यकाल पूरा हो रहा है। इनमें शारदा घोटाले के आरोपी कुणाल घोष, मुकुल रॉय भी हैं। कुणाल को पार्टी से निकाल दिया गया है, जबकि मुकुल राय पिछले साल अक्टूबर में ही बीजेपी में जाने के लिए अपनी सीट और पार्टी छोड़ चुके हैं। पार्टी के बाकी दो सांसद पत्रकार विवेक गुप्ता और मोहम्मद नदीमल हक हैं। एक अंग्रेजी अखबार के अनुसार तृणमूल कांग्रेस की ओर से जया बच्चन की उम्मीदवारी के बारे में 18 मार्च तक घोषणा कर दी जाएगी।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story