Top

अलगाववादियों द्वारा आहूत प्रदर्शनों को रोकने के लिए श्रीनगर में प्रतिबंध

By

Published on 27 Oct 2017 3:47 AM GMT

अलगाववादियों द्वारा आहूत प्रदर्शनों को रोकने के लिए श्रीनगर में प्रतिबंध
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर के भारत में विलय के मौके पर अलगाववादियों द्वारा आहूत प्रदर्शनों को रोकने के लिए प्रशासन ने शुक्रवार को विभिन्न क्षेत्रों में प्रतिबंध लगाए हैं। अलगाववादी नेताओं सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज उमर फारुख और यासीन मलिक के संयुक्त प्रतिरोध नेतृत्व (जेआरएल) ने लोगों से 27 अक्टूबर को कश्मीर में काला दिवस के रूप में मनाने को कहा।

यह भी पढ़ें : VIRAL VIDEO OF KASHMIR : पत्थर खाओ तो ये चुप लेकिन जीप से बांधा तो परेशानी हो गई

27 अक्टूबर 1947 को कश्मीर के भारत में विलय के बाद भारतीय सेना श्रीनगर हवाईअड्डे पर उतरी थी।

पुलिस अधिकारी ने बताया, "नौहट्टा, एम.आर.गंज, सफा कदल, रैनवाड़ी, खानयार, क्रालखुद और मैसूमा में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत प्रतिबंध बना रहेगा।"

यह भी पढ़ें : Kashmir: घाटी में दो महीने में जले 25 स्कूल, हाईकोर्ट ने सरकार से कहा- इन्हें बचाएं

क्षेत्र में पैदल यात्रियों और वाहनों के आवागमन पर रोकने के लिए राज्य पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की भारी संख्या में तैनाती की गई।

यह भी पढ़ें : HC : पार्क को कब्रिस्तान बता जमीन कब्जाने का आरोप, हटेंगी दुकानें

घाटी में सुरक्षा के मद्देनजर शुक्रवार को रेल सेवाएं भी रद्द कर दी गई।

-आईएएनएस

Next Story