×

लालू को सजा दिए जाने की स्थिति में मंथन में जुटे राजद नेता

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 6 Jan 2018 10:00 AM GMT

लालू को सजा दिए जाने की स्थिति में मंथन में जुटे राजद नेता
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

पटना : चारा घोटाले के एक मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद को इस मामले में अदालत द्वारा अब तक भले ही सजा नहीं सुनाई गई है, लेकिन राजद इसके बाद की स्थिति से निपटने के लिए अभी से ही रणनीति बनाने में जुट गई है। इसे लेकर शनिवार को पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर राजद के शीर्ष नेताओं के बीच मंथन हो रहा है। इस बैठक में बड़ी संख्या में राजद के नेता और कार्यकर्ता भाग ले रहे हैं।

राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने इस बैठक में भाग लेने के पूर्व बताया, "यह बैठक पूर्व निर्धारित था। इस बैठक में पार्टी को मजबूत करने और भविष्य की रणनीति पर विचार किया जाएगा।"

ये भी देखें :लालू यादव की सजा पर RJD की नजर, पार्टी चाह रही 3 साल से कम हो सजा

वैसे, इस बैठक के जरिए राजद यह भी संदेश देने की कोशिश कर रही है कि पार्टी एकजुट है और अध्यक्ष लालू प्रसाद के जेल जाने की स्थिति के बाद पार्टी के सेहत पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। यही कारण है कि बैठक में पहुंचने वाले कार्यकर्ता 'हममें है लालू, तुममें है लालू, हम सबमें है लालू' का नारा लगा रहे हैं।

ये भी देखें : Lalu seeks minimum punishment; sentencing on Saturday

बैठक में पहुंचने वाले कार्यकर्ताओं ने एक सुर में कहा कि लालू कहीं भी रहें उनकी नीति और सिद्घांत हमारे साथ है। बैठक में राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव, रघुवंश प्रसाद सिंह, विधायक भाई वीरेंद्र सहित सभी वरिष्ठ नेता भी भाग ले रहे हैं।

पूर्व उपमुख्यमंत्री और लालू प्रसाद के पुत्र तेजस्वी यादव के नेतृत्व में हो रही इस बैठक में शामिल होने के लिए पार्टी के सांसद, विधायक, विधान पार्षद, पार्टी के पदाधिकारियों, जिलाध्यक्षों और प्रखंड अध्यक्षों को आमंत्रित किया गया है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story