×

रोहिंग्या: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- पीड़ितों की अनदेखी भी नहीं की जा सकती

aman

amanBy aman

Published on 13 Oct 2017 10:21 AM GMT

रोहिंग्या: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- पीड़ितों की अनदेखी भी नहीं की जा सकती
X
रोहिंग्या मुद्दा: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- पीड़ितों की अनदेखी भी नहीं की जा सकती
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने रोहिंग्या शरणार्थियों को देश में शरण देने या वापस भेजने के मामले पर सुनवाई 21 नवंबर तक के लिए टाल दिया है। कोर्ट ने शुक्रवार (13 अक्टूबर) को सुनवाई के दौरान सभी पक्षों को अपने तर्क तैयार करने को कहा। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा सहित तीन जजों की बेंच रोहिंग्या शरणार्थियों की याचिका पर सुनवाई कर रही है।

सुप्रीम कोर्ट ने रोहिंग्या मुद्दे पर सुनवाई के दौरान कहा, कि 'मानवीय मूल्य हमारे संविधान का आधार है। देश की सुरक्षा और आर्थिक हितों की रक्षा जरूरी है। लेकिन, पीड़ित महिलाओं और बच्चों की अनदेखी भी नहीं की जा सकती।'

ये भी पढ़ें ...रोहिंग्या मुसलमानों पर भागवत का हमला, बोले- ये देश के लिए खतरा हैं

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि वह अगली सुनवाई तक इन्हें (रोहिंग्या शरणार्थियों) वापस भेजने का फैसला न ले। बता दें, कि देश में रह रहे रोहिंग्या शरणार्थियों ने केंद्र सरकार के उस फैसले को चुनौती दी है, जिसमें उन्हें भारत से वापस भेजने को कहा गया है।

ये भी पढ़ें ...रोहिंग्या मुद्दा: वरुण ने अपनी ही सरकार को दिलाई ‘अतिथि देवो भव:’ की याद



aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story