×

क्या कह रहे हो ! मोदी के आने के बाद J&K में बढ़ीं आतंकी घटनाएं

आतंकवाद के खिलाफ लड़ने को लेकर बड़ी-बड़ी बातें करने वाली केंद्र सरकार के तीन सालों के कार्यकाल में जम्मू एवं कश्मीर में आतंकी घटनाएं बढ़ी हैं।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 10 Oct 2017 3:40 PM GMT

क्या कह रहे हो ! मोदी के आने के बाद J&K में बढ़ीं आतंकी घटनाएं
X
क्या कह रहे हो ! मोदी के आने के बाद कश्मीर में बढीं आतंकी घटनाएं
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ : आतंकवाद के खिलाफ लड़ने को लेकर बड़ी-बड़ी बातें करने वाली केंद्र सरकार के तीन सालों के कार्यकाल में जम्मू एवं कश्मीर में आतंकी घटनाएं बढ़ी हैं। सूचना के अधिकार (आरटीआई) द्वारा गृह मंत्रालय से मांगी गई सूचना के मुताबिक, बीते तीन सालों में जम्मू एवं कश्मीर में 812 आतंकी घटनाएं हुईं। जिनमें 62 नागरिक और 183 भारतीय जवान शहीद हो गए। वहीं बीती मनमोहन सरकार के आखिर के तीन सालों के कार्यकाल में कुल 705 आतंकी घटनाओं में 59 नागरिक और 105 जवान शहीद हुए थे।

यह भी पढ़ें .. मोदी में उन्हें नजर आता है ‘निर्वाचित आतंकवादी’, अपने गिरेबान में तो झांको

आरटीआई के जरिए पूछे गए थे ये सवाल ...

यूपी के नोएडा निवासी आरटीआई कार्यकर्ता रंजन तोमर ने गृह मंत्रालय से हासिल सूचना के आधार पर बताया कि उन्होंने गृह मंत्रालय से चार सवाल पूछे थे। मोदी की सरकार के आने के तीन साल और उसके पहले मनमोहन सिंह सरकार के आखिरी तीन साल में जम्मू एवं कश्मीर में कितनी आतंकवादी गतिविधियां हुई और उनमें कितने आम नागरिक और कितने जवान शहीद हुए?

यह भी पढ़ें .. J&K में बोले PM मोदी- पत्थरबाज नौजवानों के पास दो रास्ते ‘टेररिज्म या टूरिज्म’

उन्होंने कहा, "तीसरा सवाल यह था कि इस दौरान आतंकवादी गतिविधियों को नियंत्रित करने के लिए गृह मंत्रालय ने मनमोहन सरकार के अंतिम तीन साल में कितनी धनराशि जारी की और चौथा प्रश्न था कि मोदी सरकार ने प्रथम तीन साल में कितनी धनराशि जारी की।"

यह भी पढ़ें .. ओवैसी बोले- अमरनाथ आतंकी हमले की थी पहले से आशंका, फिर क्यों नाकाम रही मोदी सरकार

जानिए क्या मिला जवाबमिला ये जवाब

गृह मंत्रालय के लोक सूचना अधिकारी ने जवाब में बताया, "मई, 2011 से मई, 2014 के बीच में जम्मू एवं कश्मीर में 705 आतंकवादी घटनाएं हुईं। जिसमें 59 आम नागरिक मारे गए और 105 जवान शहीद हो गए, जबकि मई, 2014 से मई, 2017 तक 812 आतंकवादी घटनाएं हुईं। जिनमें 62 नागरिक मारे गए और 183 जवान शहीद हो गए।"

यह भी पढ़ें .. कश्मीर में जैश-ए-मोहम्मद कमांडर ढेर, राजनाथ बोले- रोज मार रहे 5-6 आतंकी

अधिकारी ने बताया कि इसी दौरान मनमोहन सरकार के अंतिम तीन साल में गृह मंत्रालय ने आतंकवाद से लड़ने के लिए तकरीबन 850 करोड़ रुपए जारी किए। जबकि मोदी सरकार के समय गृह मंत्रालय ने 1,890 करोड़ रुपए इस बाबत जारी किए।

--आईएएनएस

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story