×

श्रीनगर: 34 घंटे बाद एनकाउंटर खत्म, सेना को मिले दोनों आतंकियों के शव

aman

amanBy aman

Published on 13 Feb 2018 8:35 AM GMT

श्रीनगर: 34 घंटे बाद एनकाउंटर खत्म, सेना को मिले दोनों आतंकियों के शव
X
श्रीनगर: 34 घंटे बाद एनकाउंटर खत्म, सेना ने मिले दोनों आतंकियों के शव
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

श्रीनगर: केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) मुख्यालय के पास सोमवार को आतंकियों के खिलाफ शुरू हुआ एनकाउंटर मंगलवार (13 फरवरी) को करीब 34 घंटे बाद खत्म हो गया। सेना ने मारे गए दोनों आतंकियों के शव बरामद किए हैं।

दरअसल, सोमवार तड़के दो-तीन आतंकियों ने सीआरपीएफ मुख्यालय में हथियार सहित घुसने की कोशिश की थी, लेकिन संतरी की सूझबूझ से यह हमला टल गया। इसके बाद आतंकी पास के ही एक बिल्डिंग में घुस गए जहां 34 घंटे बाद एनकाउंटर खत्म हुआ।

सेना आतंकियों पर नज़र रखने के लिए ड्रोन की मदद ले रहा था। सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी मौके पर मौजूद रहे। सुरक्षाबलों ने करन नगर (जहां यह मुठभेड़ जारी है) के आस-पास के इलाके को घेर लिया था। गौरतलब है, कि सोमवार को रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण भी यहां आयीं थीं।

ड्रोन से रखी नजर

बताया जा रहा है, कि जिस बिल्डिंग से आतंकी छुपकर फायरिंग कर रहे हैं, वह बिल्कुल नई है। इसी वजह से इस बिल्डिंग में अभी खिड़कियों के शीशे तक नहीं लगे हैं। इसी कारण ड्रोन के जरिए अंदर की तस्वीरें साफ दिख सकती हैं।

लश्कर-ए-तैयबा ने ली जिम्मेदारी

सोमवार को हुए इस हमले की कोशिश में सीआरपीएफ का एक जवान शहीद हो गया था। लश्कर-ए-तैयबा ने इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली है। कश्मीर में इस आतंकी संगठन के सरगना ने ईमेल के जरिए जारी बयान में कहा कि उसके लोगों ने इस हमले को अंजाम दिया है।

सुंजवां हमला: एक जवान का शव बरामद

वहीं दूसरी तरफ, सुंजवां सैन्य शिविर में तलाशी के दौरान एक और जवान का शव बरामद होने के बाद जम्मू में हुए आतंकवादी हमले के मृतकों की संख्या बढ़कर अब 7 हो गई है। सेना ने मंगलवार को कहा, कि छठे जवान का शव सोमवार शाम को तलाशी अभियान के दौरान बरामद हुआ।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story