×

मोदी का तंज- पटना विवि ने रविशंकर-रामविलास को दिया तो लालू को भी..

aman

amanBy aman

Published on 14 Oct 2017 9:38 AM GMT

मोदी का तंज- पटना विवि ने रविशंकर-रामविलास को दिया तो लालू को भी..
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

पटना: पटना यूनिवर्सिटी के शताब्‍दी समारोह में पीएम मोदी और सीएम नीतीश कुमार की उपस्थिति में उपमुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद यादव पर तंज कसा। अपने संबोधन में सुशील मोदी ने कहा कि 'इस विश्‍वविद्यालय ने जहां रविशंकर प्रसाद और रामविलास पासवान जैसे छात्रों को दिया तो लालू को भी दिया।' उनके इतना कहते ही वहां मौजूद कई लोगों ने मंद मुस्कान दी।

गौरतलब है कि हाल के महीनों में सुशील मोदी ने भ्रष्‍टाचार के मुद्दे पर लालू यादव और उनके परिवार के खिलाफ पर हमलावर रुख अख्तियार कर रखा है। बीते महीनों में उन्होंने यादव परिवार के खिलाफ दस्तावेज पेश कर अहम खुलासे किए।

ये भी पढ़ें...PM मोदी बोले- 20 यूनिवर्सिटी के लिए केंद्र की 10,000 Cr. की योजना

लालू रहे हैं पटना यूनिवर्सिटी छात्रसंघ के अध्‍यक्ष

उल्लेखनीय है, कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का छात्र जीवन पटना यूनिवर्सिटी में ही बीता है। वे पटना विवि के छात्र संघ अध्‍यक्ष भी रहे थे। उस दौर में वर्तमान सीएम नीतीश कुमार भी पटना विवि के इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र थे। ज्ञात हो, कि पटना यूनिवर्सिटी ने इस शताब्‍दी समारोह में शामिल होने के लिए लालू यादव को भी निमंत्रण भेजा था, लेकिन वो समारोह में नहीं आए।

ये भी पढ़ें...BJP का ‘विकास’ पैदा ही नहीं हुआ, तो मरेगा कैसे : लालू यादव

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story