×

Navratri 2022: मां के नवरात्रों में गलती से भी न करें ये काम, पहले ही यहां जान लें

Navratri Mein Na Kare Ye Kaam: नवरात्रों के नौ दिन मां दुर्गा की पूजा भक्ति करने का बहुत फल मिलता है। मां अपने भक्तों को खूब आर्शीवाद देती है।

Vidushi Mishra
Updated on: 22 Sep 2022 11:57 AM GMT
Navratri 2022
X

नवरात्र (फोटो-सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Navratri Mein Na Kare Ye Kaam: मां दुर्गा के भक्तों को नवरात्रि का सालभर इंतजार रहता है। लेकिन अब वो शुभ घड़ी आ गई है। जीं हां 26 सितंबर से शारदीय नवरात्र शुरू हो रहे हैं। देशभर में मां दुर्गा के नवरात्रों की धूम रहती है। भक्त मां दुर्गा की खूब विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते हैं। नवरात्रों के दौरान मंदिरों में घरों में मां के जयकारे लगाए जाते हैं। साथ ही जगह-जगह दुर्गा पूजा पंडाल का भव्य आयोजन भी किया जाता है। नवरात्रों के दिन मां की भक्ति में लीन होने का अलग ही आनंद है। चारों तरह जगमगाहट से मन में सकारात्मक विचारों की उत्पत्ति होती है।

हिंदू शास्त्रों के अनुसार, नवरात्रों के नौ दिन मां दुर्गा की पूजा भक्ति करने का बहुत फल मिलता है। मां अपने भक्तों को खूब आर्शीवाद देती है। नवरात्र के पहले दिन मां दुर्गा की स्थापना की जाती है। पूजा की शुरूआत में ही कलश स्थापना की जाती है और खूब धूमधाम से मां की पूजा की जाती है। जिससे घर परिवार में सुख-समृद्धि और शांति का वास होता है।

लेकिन ध्यान देने वाली बात ये है कि नवरात्रों में कुछ ऐसे भी काम हैं जिन्हें करने पर पूर्ण मनाही है। इन कामों को करने से मां प्रसन्न नहीं होती हैं। आइए आपको बताते हैं कि नवरात्रों में भूल से भी ये काम नहीं करने चाहिए।

नवरात्र (फोटो-सोशल मीडिया)

नवरात्र में गलती से भी न करें ये काम

नौ दिन घर को अकेला न छोड़े

जीं हां नवरात्र के पहले दिन जब से आप मां की पूजा अर्चना करते हैं कलश स्थापना करते हैं तब से लेकर नौ दिन तक घर को कभी अकेला नहीं छोड़ना चाहिए। साथ ही दिन में सोना भी नहीं चाहिए।

नवरात्र में बेटियों को खुश रखें

वैसे भी हिंदू धर्म में कन्याओं को ऊंचा दर्जा दिया गया है। रही बात नवरात्रों की तो इन नौ दिन तो कन्याओं को देवी का स्वरूप माना जाता है इसलिए इन दिनों में कन्याओं को खुश रखना चाहिए। किसी भी कन्या का अपमान तो गलती से भी नहीं करना चाहिए।

बाल कटवाने से बचे

ये भी बताया गया है कि नवरात्रों में बाल नहीं कटवाना चाहिए। चाहे स्त्री हो या पुरूष। साथ ही पुरूषों को दाढ़ी- मूछे भी नहीं बनवानी चाहिए। इसके अलावा स्त्री-पुरूष दोनों को नाखून नहीं काटने चाहिए।

लड़ाई-झगड़े से दूर रहें

नवरात्र में मां घर में वास करती है इसलिए नौ दिन के दौरान किसी के प्रति कोई द्वेष-भाव नहीं रखना चाहिए। न ही किसी से लड़ाई झगड़ा करना चाहिए। हिंदू शास्त्रों में ऐसा कहा गया है कि जिस घर में कलह लड़ाई झगड़ा होता है वहां मां लक्ष्मी एक पल भी नहीं रूकती हैं।

नवरात्रों में लहसुन, प्याज, शराब और मांसाहारी खाने से बचे

नवरात्रों में सात्विक भोजन करना चाहिए। हिंदू शास्त्रों में प्याज, लहसुन को तामसिक भोजन की श्रेणी में रखा गया है। साथ ही सात्विक भोजन खाने से आपके व्यवहार में भी मधुरता आएगी। इसलिए प्याज, लहसुन, शराब और मांसाहारी भोजन का त्याग कर देना चाहिए।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story