Lifestyle

गर्मियों के इस मौसम में आम को बहुत पसंद किया जाता हैं। आम का रस और मुरब्बा का स्वाद तो लिया होगा। लेकिन क्या आपने कभी आम की सब्जी का स्वाद लिया हैं। आज इस कड़ी में हम आपके लिए आम की मीठी सब्जी का राजस्थानी तरीका लेकर आए हैं जो सभो को पसंद आएगी।जानते हैं इसे बनाने का तरीका...

बाजार के तरह तरह के डिजाइनर मास्क मिल रहे हैं। इन्हीं के बीच अब कॉपर यानी तांबे के मास्क भी आ गए हैं। ये मास्क ठोस तांबे के नहीं बल्कि तांबे के महीन तारों या तांबे की प्लेटिंग वाले मास्क हैं। आयुर्वेद में तो सैकड़ों साल पहले ही तांबे के बर्तन में पानी पीने को कहा गया है।

अनमोल गुगनानी दिल्ली के यूथ आइकन हैं जोकि स्वभाव के शांत होने के साथ मददगार भी हैं। अनमोल एक व्यवसायी परिवार से है जो अपने अच्छे व्यक्तित्व के लिए जाने जाता है।

बाइन एंड कंपनी की एक रिपोर्ट के अनुसार महामारी की शुरुआत से एक चौथाई उपभोक्ताओं ने लक्जरी आइटम्स की खरीद को रोक दिया था और धीरे धीरे ये प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है। लोग सस्ते विकल्पों की तरफ जा रहे हैं।

आजकल लड़के स्टाइलिश और बड़ी दाढ़ी रखने का शौक रखते हैं। ये बात अलग है कि दाढ़ी के प्रकार और फैशन के अनुसार दाढ़ी व मूंछें रखी जाती है। लेकिन क्या किसी को ये पता है कि लोगों के दाढ़ी व मूंछें रखने से उसके स्वाभाव के बारे में पता लगाया जा सकता है।

लड़कियों की तरह लड़कों के लिए फैशन बदलता है। पहले से ज्यादा आजकल के दौर में लड़के फैशन परस्त ज्यादा हो गए है। पहले  लड़के और बड़ी उम्र के पुरुष अपने चेहरे पर बिल्कुल भी दाढ़ी नहीं रखते थे अगर कोई दाढ़ी रख भी लेता था

चेहरे की खूबसूरती में आंखों के साथ आईब्रो का भी अहम रोल होता हैं। आंखें तो चेहरे की खूबसूरती का सबसे अहम भाग है। इनकी खूबसूरती और भी बढ़ जाती है, जब आइब्रो यानि भौंहे घनी व काली हो।

अब ‘बच्चा मुक्त’ होटल भी फायदे में रहेंगे। एक टेक ट्रेवल ग्रुप के अनुसार होटलों में दिसंबर-जनवरी के लिए 65 फीसदी नई बुकिंग कपल्स के लिए हो रही है जबकि पिछले साल ये 51 फीसदी थी। माना जा रहा है कि अब पेरेंट्स अपने बच्चों से भी थोड़ी फिजिकल डिस्टेन्सिंग चाह रहे हैं।

कोरोना वायरस ने रिटेल बिजनेस के ट्रेंड पर प्रभाव डाला है। अब लोग ‘मिनिमलिस्ट’ यानी न्यूनतम आवश्यकताओं वाला जीवन जीना पसंद करेंगे। फास्ट फैशन और आवेग में आ कर की गई खरीदारी की बजाय बेहतर क्वालिटी को तरजीह दी जाएगी।

सैलून में काम करने वाले हर कर्मचारी का हर दिन टेंपरेचर चेक किया जाए और अगर किसी व्यक्ति को बुखार या जुकाम जैसी समस्या है तो उसे छुट्टी दी जाए। कर्मचारियों के साथ ग्राहकों के लिए सोशल डिस्टेंसिंग लागू की जाए। कर्मचारी और ग्राहक मास्क पहनें। हाथ और पैर की सैनिटाइजिंग की जाये।