NO NIGHT SHIFT: रिसर्च में आया सामने, महिलाओं के लिए है जानलेवा

Published by Admin Published: April 29, 2016 | 11:00 am
Modified: August 10, 2016 | 3:39 am

वाशिंगटन:अगर आप भी ऑफिस में नाइट शिफ्ट करते हैं तो ये नाइट शिफ्ट्स आपके लिए जानलेवा हो सकती है।  एक शोध के मुताबिक, लगातार नाइट शिफ्ट में बदल-बदल कर काम करने से फेफड़े का कैंसर और हृदयरोग से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं, जो आपकी जल्द मौत की वजह भी बनती है।
shift
शोध में पता चला है कि जो महिलाएं 10 साल से अधिक समय से नाइट शिफ्ट में काम कर रही हैं, उनमें 15 से 18 प्रतिशत अधिक कोरोनरी हार्ट डिसीस (सीएचडी) का जोखिम होता है।

ggjm

नाइट शिफ्ट में बदलाव से सीएचडी का खतरा
इस शोध में महीने में कम से कम तीन नाइट शिफ्ट करने वालों को शामिल किया गया। हारवर्ड मेडिकल स्कूल की सहायक प्राध्यापिका इवा शेर्नहैमर ने बताया, इस शोध में हमने देखा कि इन जोखिम कारकों पर नियंत्रण के बावजूद भी नाइट शिफ्ट में बदलाव से महिलाओं में सीएचडी का जोखिम रहता है। नींद और हमारी दैनिक जैविक क्रियाएं हृदय सर्केडियन सिस्टम दिल के बीमारी और कैंसर के ट्यूमर को बढ़ने से रोकने में बेहद अहम होती हैं।
dg

2,40,000 महिला नर्सों का  पर शोध
इवा ने बताया,कि चूंकि दुनियाभर में नाइट शिफ्ट में काम करने वाले  लोगों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है, अत: ये शोध संभवत: दुनिया में सबसे बड़े समूह से संबंधित है। शोधकर्ताओं ने अमेरिका में नर्सो के स्वास्थ्य संबंधी आंकड़ा रखने वाली संस्था नर्सेज हेल्थ स्टडी (एनएचएस) द्वारा जिसमें 24 साल की अवधि में 2,40,000 महिला नर्सों का अध्ययन किया गया था।
gfg
शोध में पाया गया कि 6 से 15 सालों तक बदल-बदल कर नाइट शिफ्ट में काम करने वाली नर्सो की मृत्यु दर 11 फीसदी अधिक रही। इनमें दिल की बीमारी से होने वाली मृत्यु की दर 19 फीसदी अधिक पाई गई।