आप भी खाते है घूम-घूम कर खाना तो जान ले क्या भुगतेंगे हर्जाना

चलने-फिरने पर खून का प्रवाह प्राकृतिक रूप से अपने आप ही हमारे हाथों-पैरों की ओर मुड़ जाता है और भोजन के लिए जो पर्याप्त मात्रा में खून हमारे पाचन तंत्र को चाहिए वो नहीं पहुंच पाता। 

जयपुर: आजकल की  व्यस्त जीवनशैली  में लोगों के पास खाना खाने तक की फुर्सत नहीं होती। हर काम जल्दबाजी और भागदौड़ में करना सबकी आदत बन चुकी है। एक समय पर कई काम करने वाले लोग किसी काम पर ठीक से ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते और फिर नुकसान झेलना पड़ता है। हालांकि ये दिक्कत कई लोगों को है। सुबह ऑफिस, स्कूल या कॉलेज निकलते वक्त एक हाथ में बैग और दूसरे हाथ में नाश्ता लेकर अगर भागते हैं तो उन्हें सावधान होना चाहिए…कहते है चलते फिरते खाना सेहत को नुकसान पहुंचाता है।

*बैठकर खाना खाने के लिए अक्सर आपके बड़े बुजुर्ग सलाह देते हैं इसके पीछे वैज्ञानिक कारण यह है कि चलने-फिरने पर खून का प्रवाह प्राकृतिक रूप से अपने आप ही हमारे हाथों-पैरों की ओर मुड़ जाता है और भोजन के लिए जो पर्याप्त मात्रा में खून हमारे पाचन तंत्र को चाहिए वो नहीं पहुंच पाता।

 

ये संकेत जताते है दुर्घटना की संभावना, इनके पड़ने वाले अशुभ प्रभाव से हो जाएं सावधान

*भारतीय संस्कृति में और आयुर्वेद के अनुसार भी ऐसा माना गया है कि भोजन जमीन पर बैठकर खाना चाहिए। इसके पीछे भी वैज्ञानिक कारण है कि बैठ जाने पर सभी मांसपेशियां सही स्थिति में आ जाती हैं और कुछ एक्यूप्रेशर बिंदु ऐसे हैं, जिनके ऊपर दबाव पड़ने से पूरे पाचन तंत्र का रक्त प्रवाह ठीक हो जाता है।

*अगर मन में भोजन करते हुए स्वस्थ रहने की भावना जुड़ जाए तो पूरे शरीर पर उस का बड़ा उत्तम प्रभाव पड़ता है। भोजन करते समय आपका ध्यान केवल भोजन पर ही होना चाहिए। इसे माइंडफुल ईटिंग कहते हैं और यह केवल बैठकर ही संभव है। हर काम को पूरा समय दें, जल्दबाजी ना करें, भागदौड़ में नुकसान ही होता है इसलिए खाना अवश्य बैठकर आराम से खाएं।