Top

देश में बढ़ रहा है हेल्दी फूड का व्यापार

मोबाइल फोन पर उपलब्ध इंटरनेट में भले ही तमाम खामियां हो लेकिन यह सुलभ इंटरनेट अब लोगों के खानपान की आदतों में भी सुधार कर रहा है।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 3 March 2020 8:22 AM GMT

देश में बढ़ रहा है हेल्दी फूड का व्यापार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: मोबाइल फोन पर उपलब्ध इंटरनेट में भले ही तमाम खामियां हो लेकिन यह सुलभ इंटरनेट अब लोगों के खानपान की आदतों में भी सुधार कर रहा है। इंटरनेट के जरिए लोग खानपान के फायदे और नुकसानों को न केवल एक-दूसरे से साझां कर रहे है बल्कि स्वास्थ्य के लिए हानिकारक खाद्य पदार्थों से दूरी बनाते हुए लाभदायक भोजन को अपनी दैनिक खाद्य सूची में शामिल कर रहे है।यहीं कारण है कि बाजार में अब हेल्दी और आर्गेनिक भोजन की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। बाजार पर नजर डाले तो देश में हेल्दी खाद्य पदार्थों का व्यापार 20 प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर से बढ़ रहा है और वर्ष 2022 तक इसके 30 अरब डॉलर का हो जाने का अनुमान है।

ये भी पढ़ें:राष्ट्रपति ने भंग की संसद: दोबारा होंगे चुनाव, सभी पार्टियों में मचा हाहाकार

आनलाइन खाना आपूर्ति में लगी स्विगी और जोमैटो जैसी कंपनियांे का मानना है कि हेल्दी और घर जैसे खाने की मांग बढ़ गई है। इन कंपनियों का कहना है कि उनके अधिकतर ग्राहक हेल्दी फूड की मांग कर रहे है। यूपी की राजधानी लखनऊ में ही इस तरह के कई आउटलेट खुल गए है जो हेल्दी और घर जैसे खाने की आपूर्ति कर रहे हैै। ऐसे ही किचेन नाम के एक आउटलेट के मैनेजर शुभम का कहना है कि वह सभी तरीके के शाकाहारी भारतीय व्यजंन बनाते है, जिसमे कम तेल और मसालों का इस्तेमाल किया जाता है। इसी तरह फूड चेन रेस्टोरेंट चलाने वाले विक्रांत दुबे के बाटी-चोखा रेस्टोरेंट में अनाज से लेकर मसाले तक ग्राहकों के सामने ही पीसे जाते है।

देश में भी इस समय हेल्दी खाने का व्यापार बढ़ गया है। खाद्य समाग्राी आपूर्ति करने वाली कंपनी बिग बास्केट पर हेल्दी फूड की ग्रोथ दोगुनी हो गई है। देश में इस समय खिचड़ी एक्सपेरिमेंट, प्रोजेक्ट ग्रीन कैविंग्स, द 500 कैलोरी जैसे ब्रांड धूम मचा रहे है। रेबेल फूड्स और फ्रेश मेन्यु जैसी क्लाउड किचन ऑपरेटर्स ने अपने प्लेटफार्म पर कुछ नए हेल्थ ब्रांड जोड़े हैं। इसके अलावा एंड मी जैसे विमेन हेल्थ ब्रांड और स्लर्प फार्म, मममको, टीमोस जैसे बेबी फूड ब्रांड भी विशेष श्रेणी में मौजूद अवसर पर कब्जा करने के लिए इस बाजार में आ चुके हैं।

इन कैटेगरी में 10-12 नए हेल्थ ब्रांड लॉन्च हो चुके हैं। हेल्दी खाद्य पदार्थों के बढ़ते कारोबारी मौके को भांपते हुए निवेशक भी इसमें निवेश बढ़ा रहे हैं। ऑनलाइन ग्रॉसरी रिटेलर बिग बास्केट के सीईओ हरि मेनन का कहना है कि हेल्दी फूड प्रोडक्ट की खपत में काफी वृद्धि देखने को मिल रही है। ऑर्गेनिक फूड, कोल्ड प्रेस्ड आयल, मिलेट, बेक्ड स्नैक्स, डायबेटिक फ्रेंडली फूड और शुगर फ्री जैसे हेल्दी खाद्य पदार्थों की मांग बढ़ रही है।

ये भी पढ़ें:कपिल मिश्रा पर दिल्ली पुलिस का खुलासा: भड़काऊ भाषण के आरोपी को नहीं दी सुरक्षा

हेल्दी खाद्य पदार्थों के प्रति लोगों का रूझान इस तरह बढ़ा है कि अब लोगों के राशन में समुद्री नमक की जगह सेंधा नमक और रिफाइंड की जगह सरसों का तेल तेजी से जगह बना रहा है। गेंहू के आटे के मुकाबले मल्टीग्रेन आटे की बिक्री भी बढी है। लोगो का रूझान तीसी और दलिया जैसे पारम्परिक भारतीय हेल्दी फूड की ओर बढ़ा है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story