तांबे के फेस मास्क बने लेटेस्ट क्रेज़

बाजार के तरह तरह के डिजाइनर मास्क मिल रहे हैं। इन्हीं के बीच अब कॉपर यानी तांबे के मास्क भी आ गए हैं। ये मास्क ठोस तांबे के नहीं बल्कि तांबे के महीन तारों या तांबे की प्लेटिंग वाले मास्क हैं। आयुर्वेद में तो सैकड़ों साल पहले ही तांबे के बर्तन में पानी पीने को कहा गया है।

Published by suman Published: May 29, 2020 | 6:43 pm
Modified: May 29, 2020 | 6:44 pm

लखनऊ बाजार के तरह तरह के डिजाइनर मास्क मिल रहे हैं। इन्हीं के बीच अब कॉपर यानी तांबे के मास्क भी आ गए हैं। ये मास्क ठोस तांबे के नहीं बल्कि तांबे के महीन तारों या तांबे की प्लेटिंग वाले मास्क हैं। आयुर्वेद में तो सैकड़ों साल पहले ही तांबे के बर्तन में पानी पीने को कहा गया है। तांबे में बैक्टीरिया और वायरस को मरने की क्षमता होती है। हाल के एक शोध में पता चला है कि तांबा चार घंटे के भीतर कोरोना वायरस को निष्प्रभावी कर देता है। ब्रिटेन और अमेरिका में अस्पतालों के दरवाजों की हैंडल और तांबे की बनाई जातीं रहीं हैं ताकि बीमारी को फैलने से रोका जा सके। तांबे का इस्तेमाल कपड़े में भी किया जाता रहा है। अमेरिका में वर्जीनिया स्थित क्यूप्रोन नामक कंपनी ने एक दशक पेहले ही तांबा मिश्रित कपड़ा बनाया था जिनका इस्तेमाल अस्पतालों की बेडशीट्स और तकिया कवर में किया जाता है।

 

यह पढे़ं…कोरोना को परास्त कर 12 संक्रमित हुए नेगेटिव, बलिया में मिले पांच नये संक्रमित

एक माइक्रोबायोलोजिस्ट फाइलिस कुहन अस्पतालों में तांबे के इस्तेमाल की एक प्रमुख पैरोकार रहीं हैं। उन्होने 99.95 फीसदी तांबे की महीन जाली से मास्क विकसित किया है जिसे वो अपनी वेब साइट पर 25 डालर में बेचती हैं।

कोरोना वायरस के इस दौर में कई कंपनियों ने तांबे के मास्क बना कर बेचना शुरू कर दिया है। इनमें एटोम्स, फ्यूटन शॉप, अर्गमान जैसे कई स्टार्टअप्स शामिल हैं। इन कंपनियों के मास्क 10 से 70 डालर की कीमत में बिक रहे हैं। कुछ इज़राइली कंपनियाँ भी कॉपर फाइबर के मास्क बेच रहीं हैं।

यह पढे़ं…मजदूरों को मिलेगा रोजगार, योगी सरकार सहित कई लोगों ने किए हस्ताक्षर

 

मेडिकल यूनिवरसिटी ऑफ साउथ कैरोलिना में माइक्रोबायोलोजी और इम्यूनोलोजी के प्रोफेसर माइकेल शिम्डट का कहना है कि कॉपर बीमारियों से बहुत सुरक्षा प्रदान करता है। तांबे के महीन तारों से बने फैब्रिक पहले से ही मौजूद थे लेकिन अब कोरोना वायरस ने इसका नया बाजार खड़ा कर दिया है। माइकेल शिम्डट का कहना है कि तांबे के मास्क का इस्तेमाल भी सावधानी से करना चाहिए क्यों कि तांबा किसी भी अन्य धातु की तरह केमिकल्स के साथ रिएक्शन करता है। ऐसे में इसको किसी तेज केमिकल या सैनिटाइजर से साफ नहीं करना चाहिए।

भारत में अमेज़न और अन्य साइट्स पर तांबे के मास्क बेचे जा रहे हैं जिनकी कीमत 1500 रुपये के आसपास है।