×

कॉफी पीने से बढ़ सकता है किडनी के मरीजों का जीवनकाल

क्या आप लंबे समय तक जीना चाहते हैं? तो अपने कॉफी के कप को भर लें। एक अध्ययन के मुताबिक कैफीन के इस्तेमाल से क्रोनिक किडनी की बीमारी (सीकेडी) के मरीजों का भी जीवनकाल बढ़ सकता है। इस अध्ययन के निष्कर्षो में बताया गया कि कैफीन और मृत्यों के कारणों के बीच एक संबंध है। जो लोग सबसे ज्यादा कॉफी पीते हैं, उनके मरने का खतरा 24 फीसदी कम हो जाता है, जबकि कम मात्रा में कॉफी पीनेवालों की भी मौत का खतरा 12 फीसदी तक टल जाता है।

priyankajoshi
Published on: 4 Nov 2017 12:17 PM GMT
कॉफी पीने से बढ़ सकता है किडनी के मरीजों का जीवनकाल
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लंदन: क्या आप लंबे समय तक जीना चाहते हैं? तो अपने कॉफी के कप को भर लें। एक अध्ययन के मुताबिक कैफीन के इस्तेमाल से क्रोनिक किडनी की बीमारी (सीकेडी) के मरीजों का भी जीवनकाल बढ़ सकता है। इस अध्ययन के निष्कर्षो में बताया गया कि कैफीन और मृत्यों के कारणों के बीच एक संबंध है। जो लोग सबसे ज्यादा कॉफी पीते हैं, उनके मरने का खतरा 24 फीसदी कम हो जाता है, जबकि कम मात्रा में कॉफी पीनेवालों की भी मौत का खतरा 12 फीसदी तक टल जाता है।

पोर्टुगल के सेंट्रो हॉस्पीटलर लिस्बोआ नोर्टे के मिगुअलल बिगोट्टे विइरा ने कहा, "इस अध्ययन के निष्कर्षो से पता चलता है कि सीकेडी के मरीजों के ज्यादा कॉफी पीने से उनकी मौत का खतरा कम हो सकता है। यह एक आसान क्लिनिकली प्रमाणित और सस्ता विकल्प हो सकता है।"

विइरा कहते हैं, "इसकी अभी रैंडमाइज्ड क्लिनिकल ट्रायल में पुष्टि की जानी चाहिए।" शोधदल ने सीकेडी पीड़ित 2328 मरीजों का अध्ययन कर यह निष्कर्ष निकाला है। इस न्यू ऑरलैंस में चल रहे एएसएन किडनी सप्ताह में प्रदर्शित किया जाएगा।

विइरा ने जोर देकर कहा कि इसके अलावा, यह अवलोकन अध्ययन यह साबित नहीं कर सकता कि कैफीन सीकेडी के मरीजों में मृत्यु के जोखिम को कम करता है, लेकिन केवल इस तरह के सुरक्षात्मक प्रभाव की संभावना का सुझाव देता है। अमेरिकन केमिकल सोसायटी में रिपोर्ट में बताया गया है कि कॉफी पीने से मधुमेह का जोखिम कम हो सकता है।

--आईएएनएस

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story