×

Smartphone Measure Blood Oxygen Level: अब स्मार्टफोन के कैमरे से नाप सकेंगे ब्लड में ऑक्सीजन

Smartphone Measure Blood Oxygen Level:अब विशेषज्ञ एक ऐसी रिसर्च कर रहे हैं जिससे सिर्फ कुछ सेंकेंडों में मरीज का ब्लड का ऑक्सीजन लेवल मापा जा सकता है। जीं हां विशेषज्ञ स्मार्टफोन के कैमरे और फ्लैश की मदद कुछ नई तरकीब निकालने की कोशिश कर रहे हैं।

Vidushi Mishra
Updated on: 22 Sep 2022 6:29 AM GMT
smartphone camera finger
X

स्मार्टफोन से नापिए ब्लड ऑक्सीजन लेवल (फोटो- सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Blood Oxygen Level saturation by age : कभी-कभी हाई-ब्लड प्रेशर या लो ब्लड प्रेशर होने पर मरीज को तुरंत अस्पताल लेकर भागते हैं, लेकिन अगर घर पर ऐसी कोई मशीन होती है तो तुंरत नापकर हाई-लो ब्लड प्रेशर का प्रेशर का पता चल जाता है और घर पर ही समय रहते मरीज का इलाज हो जाता है। ऐसे में जब भी कभी ब्लड में ऑक्सीजन कम होने की परेशानी होने लगती है तो भी तुरंत डॉक्टर के पास मरीज को लेकर भागते हैं, जिससे आप इन सबमें बहुत ज्यादा परेशान तो हो ही जाते हैं साथ ही आपका समय और पैसा दोनों ही बेस्ट जाते हैं।

ऐसे में अब विशेषज्ञ एक ऐसी रिसर्च कर रहे हैं जिससे सिर्फ कुछ सेंकेंडों में मरीज का ब्लड का ऑक्सीजन लेवल मापा जा सकता है। जीं हां विशेषज्ञ स्मार्टफोन के कैमरे और फ्लैश की मदद कुछ नई तरकीब निकालने की कोशिश कर रहे हैं।

इस बारे में विशेषज्ञों ने एक प्रूफ-ऑफ-थ्योरी अध्ययन किया है। इस थ्योरी के अध्ययन में उन्होंने लोगों के ब्लड ऑक्सीजन सेचुरेशन के लेवल को मापने के लिए एक स्मार्टफोन कैमरा और इसके फ्लैश मॉड्यूल का उपयोग किया है।

ऐसा करने पर विशेषज्ञों के मुताबिक, स्मार्टफोन के कैमरे और फ्लैश मॉड्यूल का उपयोग करके ब्लड ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल को 70 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। लेकिन स्मार्टफोन और ब्लड ऑक्सीजन लेवल की तरकीब पर अभी विशेषज्ञ आविष्कार कर रहे हैं। लेकिन ये बताया जा रहा है कि जल्द ही आप अपने घर पर अपने ब्लड ऑक्सीजन के लेवल को माप सकेंगे। इस तरकीब से बहुत आसानी होगी।

सूत्रों से सामने आई रिपोर्ट्स के मुताबिक, वाशिंगटन विश्वविद्यालय और कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय सैन डिएगो के विशेषज्ञों द्वारा किए गए प्रूफ-ऑफ-थ्योरी स्टडीन को एनपीजे डिजिटल मेडिसिन पत्रिका में प्रकाशित किया गया है। इस पर विशेषज्ञों ने फिलहाल इस टेक्नॉलॉजी के पेटेंट के लिए आवेदन किया है।

इस रिसर्च में शामिल हॉफमैन वाशिंगटन विश्वविद्यालय में डॉक्टरेट के छात्र शोध के बारे में बताया कि 2020 की शुरुआत में ऐप स्टोर पर कुछ ऐसे ऐप्स थे, जिनसे ये काम संभव था। पर इस समय कुछ तकनीकी खामियों की वजह से इन्हें ऐप स्टोर से हटा दिया गया।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story