×

सौंफ खाने से साफ होता है गला, दमकती है स्किन, दूर भागती है एसिडिटी

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 29 Jan 2016 12:10 PM GMT

सौंफ खाने से साफ होता है गला, दमकती है स्किन, दूर भागती है एसिडिटी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ. सुगंधित और खाने में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ सौंफ के कई फायदे भी हैं। इसके लगातार सेवन से आंखों की रोशनी भी बढ़ती है। ऐसा माना जाता है कि खाने के बाद चीनी के साथ थोड़ी सी सौंफ खा लेने से खाना अच्छी तरह डाइजेस्ट हो जाता है। दिमागी बीमारियों के लिए सौंफ काफी फायदेमंद मानी जाती है। आइए आपको बताते हैं कि किचन में मौजूद सौंफ के कितने फायदे हैं।

* सौंफ चबाने से बैठा हुआ गला भी साफ हो जाता है। रोजाना सुबह-शाम खाली सौंफ खाने से खून साफ होता है जो कि त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है, इससे त्वचा दमकती है। वैसे तो सौंफ का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। इससे कई प्रकार के छोटे-मोटे रोगों से निजात मिलती है।

* बच्चों को पेट की समस्या होने पर दो चम्मच सौंफ का चूर्ण दो कप पानी में अच्छी तरह उबाल लेना चाहिए। इसके बाद एक चौथाई पानी शेष रहने पर छानकर ठंडा कर लें। इसे एक-एक चम्मच की मात्रा में दिन में तीन-चार बार पिलाने से पेट का, अपच, उलटी (दूध फेंकना), मरोड़ जैसी शिकायतें दूर हो जाती हैं।

* सौंफ की ठंडाई बनाकर पीने से गर्मी शांत होती है। हाथ-पाव में जलन होने की शिकायत होने पर सौंफ के साथ बराबर मात्रा में धनिया कूटकर उसमें मिश्री मिलाकर खाना खाने के बाद 5 से 6 ग्राम मात्रा में लेने से कुछ ही दिनों में आराम मिल जाता है।

* सौंफ, धनिया और मिश्री का समभाग चूर्ण 6 ग्राम की मात्रा में भोजन के बाद लेने से हाथ-पांव, एसिडिटी और सिरदर्द में आराम मिलता है। इसके अलावा सौंफ और मिश्री को बराबर मात्रा में मिलाकर इसका चूर्ण बना लें। खाना खाने के बाद दो चम्मच दो महीने तक ये चूर्ण लेने से मस्तिष्क की कमजोरी दूर होती है।

* उलटी, प्यास, जी मिचलाना, पित्त-विकार, जलन, पेटदर्द, पेचिश, मरोड़ जैसी बीमारियों में सौंफ काफी फायदा करती है। इनमें से कोई सी समस्या होने पर थोड़ी सी सौंफ खा लेनी चाहिए। अगर गले में खराश हो गई है तो सौंफ चबाना फायदेमंद होता है।

* बादाम, सौंफ और मिश्री तीनों बराबर भागों में लेकर पीसकर भर दें और रोज दोनों टाइम खाने के बाद एक चम्मच लेने से स्मरणशक्ति बढ़ती है। वहीं, 5-6 ग्राम सौंफ लेने से लीवर ठीक रहता है और आंखों की रोशनी बढ़ती है।

* आधी कच्ची सौंफ का चूर्ण और आधी भुनी सौंफ के चूर्ण में हींग और काला नमक मिलाकर 2 से 6 ग्राम मात्रा में दिन में तीन-चार बार इस्तेमाल कराएं। इससे गैस और अपच की समस्या दूर हो जाती है।

* भूनी हुई सौंफ और मिश्री समान मात्रा में पीसकर हर दो घंटे बाद ठंडे पानी के साथ फांकने से दस्त और पेचिश में आराम मिलता है। सौंफ कब्ज को दूर करती है।

Newstrack

Newstrack

Next Story