Top

सावधान! भूलकर भी डाउनलोड ना करें ये ऐप, नहीं खाता हो जायेगा खाली

अगर आप ऐसा करते हैं तो कॉलर उसी वक्त आपकी निजी जानकारियां हासिल कर लेता है और आपके पैसे उड़ा लेता है। यहां हम आपको बताने जा रहे हैं इससे बचने के तरीके

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 6 Oct 2019 11:48 AM GMT

सावधान! भूलकर भी डाउनलोड ना करें ये ऐप, नहीं खाता हो जायेगा खाली
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: साइबर क्राइम की खबरें आए दिन सामने आती रहती हैं। लोग इनके फ्राड में आसानी से फंस जाते हैं। अब इस गोरखधंधे ने एक नया तरीका निकाला है।

जानकारी के अनुसार अब KYC के नाम पर ग्राहक से रिमोट एक्सेस ऐप डाउनलोड कराए जा रहे हैं और फिर मोबाइल रिमोट पर लेकर, पैसे उड़ा लिए जाते हैं। बंगलुरू पुलिस ने ऐसे कई मामले पकड़े हैं। दरअसल ये पूरे खेल को बड़े ही शातिर तरीके अंजाम दिया जाता है कि कई बार तो इसमें जानकार लोग भी फंस जाते हैं।

कैसे हो रहा फ्रॉड?

सबसे पहले आपके पास एक कॉल आती है। कॉलर कहता है कि वो बैंक या वॉलेट के कस्टमर केयर से बोल रहा है। ऐसा बताता है। फिर फ्राड करने वाला व्यक्ति कहता है कि अपनी KYC अपडेट करनी चाहिए वरना आप कोई ट्रांजैक्शन नहीं कर पाएंगे।

ये भी पढ़ें— बुरी खबर! Paytm ने इस बैंक के लिए बंद कर दी अपनी सेवाएं

आप कहेंगे कैसे तो कहा जाएगा कि अगर आप एक ऐप डाउनलोड कर लें तो घर बैठे आपकी KYC हो जाएगी। जैसे ही आपने वो ऐप डाउनलोड किया और कॉलर के कहे मुताबिक कुछ परमिशन दे दिए तो फिर आपके मोबाइल का कंट्रोल उस कॉलर के पास चला जाता है।

फिर KYC पूरी करने का फरेब करके कॉलर कहता है कि अपने बैंक अकाउंट या वॉलेट से 1 रुपये का कोई ट्रांजैक्शन करके चेक कर लें कि KYC हुई या नहीं।

अगर आप ऐसा करते हैं तो कॉलर उसी वक्त आपकी निजी जानकारियां हासिल कर लेता है और आपके पैसे उड़ा लेता है। यहां हम आपको बताने जा रहे हैं इससे बचने के तरीके...

ये भी पढ़ें— मोदी सरकार ने लिया फैसला, बेची जाएंगी ये पांच बड़ी कम्पनियां! यहां जानें पूरा सच

इन बातों का रखें ध्यान

(1.) साइबर सुरक्षा के लिहाज से फालतू के कॉल पर बात ना करें।

(2.) फोन पर गोपनीय जानकारी ना दें।

(3.) कॉलर पर शक हो तो इसकी शिकायत करें।

(4.) अपने सिस्टम में इंटरनेट सिक्योरिटी सॉफ्टवेयर रखें।

(5.) हर ऐप का स्ट्रॉन्ग पासवर्ड, अंक और स्पेशल कैरेक्टर के साथ बनाएं।

(6.) अपना ऐप, सॉफ्टवेयर अपडेट रखें।

(7.) सोशल मीडिया पर कंट्रोल रखें। निजी बातें कम से कम शेयर करें।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story