×

हाईकोर्ट के आदेश पर इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के 20 होस्टलों से चार हजार स्टूडेंट्स को बेदखल किया गया

पिछले कई दिनों के काफी हंगामे के बाद आखिरकार इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के सभी 20 होस्टलों से चार हज़ार से ज्यादे छात्र और छात्राओं को बेदखल कर दिया गया।

sujeetkumar

sujeetkumarBy sujeetkumar

Published on 27 May 2017 2:22 PM GMT

हाईकोर्ट के आदेश पर इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के 20 होस्टलों से चार हजार स्टूडेंट्स को बेदखल किया गया
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

इलाहाबाद: पिछले कई दिनों के काफी हंगामे के बाद आखिरकार इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के सभी 20 हॉस्टल से चार हज़ार से ज्यादे छात्र और छात्राओं को बेदखल कर दिया गया। हालांकि होस्टल वाश आउट को हाई कोर्ट आदेश के बावजूद यूनिवर्सिटी और पुलिस प्रशासन को खाली कराने में काफी मशक्कत करनी पड़ी।

यूनिवर्सिटी प्रशासन ने वाश आउट खाली कराने के बाद राहत की सांस तो ली है, इनका आरोप है कि इस दौरान यूनिवर्सिटी कैम्पस , होस्टल और टीचर्स क्वाटरों पर कई बार अराजक तत्वो ने सिलसिलेवार बमबाजी कर दहशत फैलाने की भरपूर कोशिश की है।

यह भी पढ़ें...इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के लिए 21 अप्रैल से करें अप्लाई, 30 मई से शुरू होंगे एंट्रेंस एग्जाम

डीएम के जरिए कार्रवाई शुरू की जाएगी

होस्टलों में जमकर तोड़फोड़ के साथ ही 20 लाख से ज्यादा के फर्नीचर और कम्प्यूटर की चपट लगा गए। ऐसे में यूनिवर्सिटी प्रशासन का कहना है, कि इस संबंध में प्रत्येक कमरों की सूची निकल कर गायब समनो को लेकर केस दर्ज कराने के साथ दोषी छात्रों के जिले के डीएम के जरिए रिकवरी की कार्रवाई शुरू की जाएगी।

21 से 27 मई तक चले होस्टल वाश आउट की कार्रवाई की रिपोर्ट 30 मई को इलाहाबाद हाई कोर्ट में पेश की जाएगी और उसके बाद जुलाई में सभी छात्रावास को दुरुस्त कर नए सिरे से आवंटन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें...इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में हंगामा, हाॅस्टल खाली करने के आदेश के विरोध में सड़क पर उतरे स्टूडेंट्स

अवैध तालों को तोड़ा गया

आज शनिवार को अंतिम दिन यूनिवर्सिटी के तीन महिला छात्रावास में दबिश देकर सभी कमरों को सील कर दिया गया है, इस दौरान कई कमरों में लगे अवैध तालों को तोड़ा भी गया। दरअसल एक छात्र का यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में दाखिला हो जाने के बावजूद कमरा इसलिए नहीं मिल सका था कि उस पर दबंग का अवैध कब्जा था इसी को लेकर हाई कोर्च में पीआईएल दाखिल किया था जिस पर उच्च न्यायलय ने पाया कि यूनिवर्सिटी के तरीबन हर छात्रावासों में कई सालों से दबंगो ने कब्जा कर रखा है।

यह भी पढ़ें...इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में पहली बार ऑनलाइन रिक्रूटमेंट प्रॉसेस, 27 मार्च तक आवेदन

वैध छात्रों से कोई परेशानी न हो

इसपर यूनिवर्सिटी कुछ नहीं कर पा रही है, लिहाजा कोर्ट ने सख्त फरमान जारी कर जिला और यूनिवर्सिटी प्रशासन को चेतावनी जारी की थी कि सभी होस्टलों को खाली कराकर एक रोड़ मैप तैयार कर कोर्ट को सुपुर्द करें कि आगे किसी भी वैध छात्रों से कोई परेशानी न हो।

बहराल आज की तिथि में यूनिवर्सिटी के लिए राहत की बात है कि 14 लड़कों और 6 लड़कियों के छात्रावासों को पूरी तरह पुलिस बल ने खाली करवा लिया है। अब इनमें हाई कोर्ट की निगरानी में नए सत्र से दाखिले कि प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

sujeetkumar

sujeetkumar

Next Story