Top

बिहार के चुनावी रण में इस बार कई 'बड़े नेताओं' का हारना तय

इस लोकसभा चुनाव में दलों के लिए हर एक सीट जरुरी है। इसी नीति पर काम करते हुए बिहार में कई राजनीतिक दलों के अध्यक्ष और प्रदेश अध्यक्ष मैदान में हैं। परिणामों के बाद इन नेताओं के साथ ही इनके दलों का भविष्य भी तय होगा।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 14 April 2019 6:21 AM GMT

बिहार के चुनावी रण में इस बार कई बड़े नेताओं का हारना तय
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना : इस लोकसभा चुनाव में दलों के लिए हर एक सीट जरुरी है। इसी नीति पर काम करते हुए बिहार में कई राजनीतिक दलों के अध्यक्ष और प्रदेश अध्यक्ष मैदान में हैं। परिणामों के बाद इन नेताओं के साथ ही इनके दलों का भविष्य भी तय होगा।

कौन कहां से मैदान में

बीजेपी बिहार अध्यक्ष और निवर्तमान सांसद नित्यानंद राय उजियारपुर से मैदान में हैं। इनका मुकाबला राष्ट्रीय लोक समता पार्टी चीफ उपेंद्र कुशवाहा से है।

ये भी देखें : जम्मू कश्मीर में 919 ‘अपात्र व्यक्तियों’ की सुरक्षा वापस ली गई : गृह मंत्रालय

हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष पूर्व सीएम जीतन राम मांझी गया (सुरक्षित) सीट से मैदान में हैं। मुकाबला सत्ताधारी जद (यू) के विजय कुमार मांझी से है। गया में मतदान संपन्न हो चुका है।

विकासशील इंसान पार्टी अध्यक्ष मुकेश सहनी खगड़िया सीट से मैदान में हैं। मुकाबला लोक जनशक्ति पार्टी के निवर्तमान सांसद चौधरी महबूब अली कैसर से है।

ये भी देखें : लोस चुनाव तय करेंगे जम्मू-कश्मीर गरिमा के साथ संघ का हिस्सा रह पाएगा या नहीं: फारूक

जद (यू) के बागी और लोकतांत्रिक जनता दल सुप्रीमो शरद यादव मधेपुरा से मैदान में हैं। शरद राजद के चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ रहे हैं। मुकाबला जन अधिकार पार्टी चीफ पप्पू यादव से है। शरद पिछला चुनाव पप्पू यादव से हार गए थे।

राज्य में लोकसभा चुनाव के सभी चरणों में मतदान होना है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story