स्टेटस भी होते हैं दिल की जुबान, करते हैं वाट्सऐप पर ये बयां

Published by shalini Published: May 18, 2016 | 9:56 am
Modified: May 18, 2016 | 2:31 pm

प्रतीकात्मक फोटो

SANDHYA YADAV WHATSAPP STORY
SANDHYA YADAV

 

लखनऊ: न तड़पने की इजाजत है, न फ़रियाद की, घुट के मर जाऊं ये मर्ज़ी है आज के समाजी सय्याद की…  वो भी क्‍या जमाने थे, जब हमारे उदास होने पर हर कोई परेशान हो उठता था। घर में पूरे दिन चहकने वाली हम अगर एक भी दिन कुछ मिनट के लिए शांत हो जाते थे, तो हर कोई पूछ बैठता था कि आखिर हुआ क्‍या है? कॉलेज में अगर हम एक दिन गुमसुम हो जाएं, तो दोस्‍त बार बार कहते थे – अबे कौन वाली पसंद आ गई है। तू टेंशन मत ले! भाभी तो वो हमारी ही बनेगी। भाई क्‍या हुआ?  पेपर अच्‍छा नहीं हुआ क्‍या?  कहो तो आज कॉलेज के बाद सर के घर चलकर तुम्‍हारे नंबर बढ़वा दें। यार, बस तुम उदास मत रहा करो।

 

old friend
प्रतीकात्मक फोटो


हर मर्ज की दवा होते हैं स्टेटस
ऑफिस में अगर बॉस ने कुछ कह दिया होता था, तो दोस्‍त आपस में बॉस का कॉर्टून बनाकर कभी उसमें सींगे बनाते थे, तो कभी मूछों की डिजाइन बनाते थे। वो दोस्‍त हुआ करते थे। वो जमाने गुजर गए हैं, जब किसी एक इंसान की बात सुनने के लिए दस लोग अपने काम छोड़कर इकट्ठे हो जाते थे।

प्रतीकात्मक फोटो
प्रतीकात्मक फोटो

खुशी हो गम, दोस्‍त से लेकर परिवार वाले आपस में मिलकर बांटते थे। पर आज न जाने कहां वो खुशी खो गई है। लोग तो तमाम भरे हैं आसपास पर, वो अपनापन खो सा गया है, जिसकी हमें तलाश होती है।

दोस्ती का फर्ज निभाते हैं
आज शायद ही लोगों की जिंदगी में कोई ऐसा दोस्‍त बचा हो, जो आराम से हमारे दिल की बात को समझ सके।  भागदौड़ की जिंदगी में कोई और हमारा हो ना हो, पर ये गैजेट्स वाकई हमारे लिए ही हो गए हैं।

ashutosh
टेक्‍नोलॉजी के इस जमाने में यही तो एक वो हैं जो हमारे गम और खुशी दोनों को बिना किसी नखरे के अपनाते हैं। चाहे फेसबुक हो या ट्विटर, चाहे इंस्‍टाग्राम हो या फिर वाट्सऐप ये आज के वो जरिए हैं, जो आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में हमारे जज्‍बातों को समझते हैं।

rozi-khatoon

ख़ुशी और गम को बांटते हैं
आजकल तो लोग टीवी पर इतने चैनल नहीं बदलते हैं, जितने कि हर मिनट स्‍टेटस बदलते हैं। किसी के भी स्‍टेटस को देखकर आप सामने वाले की जिंदगी के बारे में पता कर सकते हैं। अगर कोई दुखी है, तो उसके स्‍टेटस पर दुखभरी लाइन नजर आएगी।

faheem
प्‍यार में डूबे और प्‍यार में हारे आशिकों के लिए मानो वाट्सऐप स्‍टेटस तो सांस लेने वाली ऑक्‍सीजन की तरह हैं। ऐसे लोग हर घंटे स्‍टेटस बदलते हैं। कभी- कभी हम सामने वाले से वो बात डायरेक्ट नहीं कह पाते हैं, जो कि कहना चाहते हैं। ऐसे में वाट्सऐप से हम दिल खोलकर अपनी फीलिंग्स उसके लिए शेयर कर सकते हैं।

zainab
कोई अपने प्‍यार के लिए रोज-रोज नए जुमलों को स्‍टेटस बनाता है, तो कोई अपने टूटे हुए दिल के दर्द को वाट्सऐप अल्‍फाजों से बयान करता है। पेशे से आरजे प्रतीक भारद्वाज को फिल्मी दुनिया काफी पसंद है। तभी उनके स्टेटस में हमेशा फिल्मी स्टाइल  दिखाई देता है। उनकी पर्सनालिटी के हिसाब से उन पर ऐसे स्टेटस फिट भी बैठते हैं ।rj-prateek
प्रेरणा भी देते हैं
ऑफिस का फ्रस्‍टेशन निकालना हो, तो अपनी नाराजगी जाहिर करने का इससे अच्‍छा तरीका नहीं है।  स्‍टेटस अपनी छोटी से छोटी बात, आजकल लोग अपने वाट्सऐप स्‍टेटस के जरिए बयान करना पसंद करते हैं। किसी किसी के स्टेटस देखकर तो हंसी ही आ जाती है बिजी रहने के कारण वो अपना स्टेटस फेल्ड दिखा देते हैं।

waseem
वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हें, जिन्‍हें खुद के साथ-साथ दूसरों को भी प्रेरणा देना अच्‍छा लगता है। जब भी इनके स्‍टेटस को खोलो, कुछ न कुछ सीख मिल ही जाती है।

tazeem
वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिन्‍हें स्‍टेटस डालना ही नहीं पसंद होता है। उनका कहना होता है कि वो क्‍यों दूसरों को चेंपवाने के लिए क्‍यों खुद के हाथों के तकलीफ दें। स्टेटस के नाम पर वो दूसरों को ठेंगा ही दिखा देते हैं।

akansha-visen

एक स्‍टूडेंट के स्‍टेटस को देखकर आप आसानी से पता लगते हैं कि वह आजकल क्‍या कर रहा है क्‍योंकि एग्‍जाम से पहले वह अपडेट कर देता है कि नो डिसटर्बेंस, ओनली पढ़ाई।

मन की भड़ास निकलने का बेहतर जरिया होते हैं
अक्‍सर होता है कि हम अपने दोस्‍त से नाराज होते हैं पर बेस्‍ट फ्रेंड होने के कारण उससे डायरेक्‍ट झगड़ा नहीं कर पाते हैं। ऐसे में अगर हम अपना वाट्सऐप स्‍टेटस बदलते हैं, तो वो हमपर शक भी नहीं कर पाता है और हम उसके लिए अपने मन में भरी भड़ास भी निकाल लेते हैं। आशियाना के देवर्ष को अपनी जिंदगी एंड्राइड सिस्टम की तरह लगती है, तो इन्होंने खुद को देस्क्रिबे करने के लिए इसी को स्टेटस का जरिया बना लिया।
devarsh-dhar
कभी-कभी जब हम खुद से भी हैरान परेशान हो जाते हैं, तो कुछ लोगों के वाट्सऐप स्‍टेटस देखकर हमें जिंदगी में आगे बढ़ने की हिम्मत भी मिलती है। जब जिंदगी में ऐसे लोग मिल जाते हैं, जिनके नजरिये से हम परेशान हो जाते हैं, तो हम उसे तो बदल नहीं सकते, पर अपना स्टेटस तो बदल सकते हैं न।  ऐसा ही कुछ पता चलता है फज़ल रजा रिजवी के स्टेटस को पढ़कर।

fazal-rizwi

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App