गांव में शानदार 5 स्टार होटल! लेकिन किसी को रहना पसंद नहीं, आखिर क्या है वजह..

लोगों में भ्रम पैदा करने के लिए रोजाना घरों में लाइट जलाई जाती हैं और सड़कों पर सफाईकर्मी झाड़ू लगाते नजर आते हैं। लेकिन इस गांव में रहने वाले लोग नहीं दिखाई देते हैं।

villages

सोशल मीडिया से फोटो

लखनऊ : लग्जरी लाइफ जीने की चाहत हर कि होती है, लेकिन  कुछ लोगों को ऐसी लाइफ मिल भी जाए तो उन्हें पसंद नहीं आती।  हर किसी कि चाहत होती हैं कि जिस जगह रहे, वो बेहद विकसित हो और वहां तमाम तरह की सुविधाएं हो। चाहें वो गांव हो या शहर हर सुविधा उपलब्ध हो। ऐसे ही एक गांव के बारे में बताने जा रहे हैं जहां फाइव स्टार होटल  किसी कि चाहत होती हैं कि जिस क्षेत्र में वह रहे वो बेहद उन्नत हो और वहां तमाम तरह की सुविधाएं हो।

 

जानते हैं कि दुनिया के एक गांव के बारे में जहां फाइव स्टार होटल जैसी सुविधाएं हैं। ये गांव है उत्तर कोरिया का किजोंग-डोंग गांव, लेकिन अचरज करने वाली बात हैं कि इस अनोखे गांव में कोई नहीं रहता हैं। हालांकि, इस गांव में आलीशान इमारतें, साफ-सुथरी सड़कें, पानी की टंकी, बिजली, स्ट्रीट लाइट समते तमाम तरह की सुविधाएं हैं।

यह पढ़ें…बिकरू कांड: विकास दुबे गैंग का ये बना नया सरगना, नाम जानकर उड़ जाएंगे होश

 

village
सोशल मीडिया से फोटो

नॉर्थ कोरिया के मिलिट्रीरहित जोन

 

किजोंग-डोंग गांव साउथ कोरिया और नॉर्थ कोरिया के मिलिट्रीरहित जोन में स्थित है। साल 1953 में कोरियन वॉर के बाद हुए युद्ध विराम के दौरान इस गांव को बनाया गया था। कई लोग इस गांव को प्रोपगैंडा विलेज कहते हैं। लोगों का ये मानना है कि इस गांव का निर्माण इसलिए कराया गया ताकि उथ कोरिया में रह रहे लोगों को ऐसा लगे कि यहां के लोगों की लाइफ काफी लग्जरी है।

 

north
सोशल मीडिया से फोटो

किस्सा भी रोचक

किजोंग-डोंग गांव के निर्माण का किस्सा भी काफी रोचक है। दरअसल, उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच जब कोरियाई युद्ध की अनौपचारिक समाप्ति हुई, उसी समय इस गांव का निर्माण हुआ। तीन साल तक चले इस युद्ध में 30 लाख से ज्यादा लोग मारे गए थे। इस दोनों देशों को अलग करने वाले क्षेत्र को डिमिलिट्राइज एरिया के रुप में जाना जाता है। युद्ध के दौरान दोनों देशों ने यहां से अपने नागरिकों को हटा दिया था।

यहां पर करीब 226 लोग

 

युद्ध विराम के बाद दोनों देश सीमा पर सिर्फ एक ही गांव को बरकरार रख सकते थे या फिर नया गांव बसा सकते थे। ऐसे में दक्षिण कोरिया ने अपनी सीमा में मौजूद फ्रीडम विलेज के रुप में जाना जाने वाला डाइसॉन्ग-डोंग को बरकरार रखा। यहां पर करीब 226 लोग रहते हैं। इतना ही नहीं इस गांव के लोगों को विशेष पहचान पत्र दिया गया है और रात 11 बजे के बाद कर्फ्यू लग जाता है।

यह पढ़ें…स्टाइलिश ट्रिमिंग से बदलेगा कोरोना में आपका लुक, एक क्लिक से जानें ये सारे टिप्स

 

kimzohra
सोशल मीडिया से फोटो

गांव एकदम सुनसान

उत्तर कोरिया ने पीस विलेज के रुप में एक नया गांव किजोंग-डोंग का निर्माण करवाया। इस गांव को लेकर उत्तर कोरिया का ये दावा है कि यहां पर 200 निवासी हैं। बच्चों के लिए किंडरगार्टन, प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल के अलावा यहां रह रहे लोगों के लिए अस्पताल भी है। लेकिन पर्यवेक्षकों के मुताबिक यह गांव एकदम सुनसान है और यहां कोई नहीं रहता है। लोगों में भ्रम पैदा करने के लिए रोजाना घरों में लाइट जलाई जाती हैं और सड़कों पर सफाईकर्मी झाड़ू लगाते नजर आते हैं। लेकिन इस गांव में रहने वाले लोग नहीं दिखाई देते हैं।

किजोंग-डोंग गांव के निर्माण का किस्सा भी काफी रोचक है। दरअसल, उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच जब कोरियाई युद्ध की अनौपचारिक समाप्ति हुई, उसी समय इस गांव का निर्माण हुआ। तीन साल तक चले इस युद्ध में 30 लाख से ज्यादा लोग मारे गए थे। इस दोनों देशों को अलग करने वाले क्षेत्र को डिमिलिट्राइज एरिया के रुप में जाना जाता है। युद्ध के दौरान दोनों देशों ने यहां से अपने नागरिकों को हटा दिया था।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App