लड़कियों-लड़कियों में प्यार: यहां शादी के बाद हो रहा ऐसा, बड़ा अजीब है ये गाँव

तंजानिया के एक गांव में रहने वाली सब महिलाएं है जो ट्राइब्स है।  ये लेस्बियन नहीं होती है। फिर एक महिला दूसरे बकायदा रीति-रिवाजों के साथ कानूनी तौर पर शादी कर लेती है। आइए जानते हैं कि यहां ऐसी शादी क्यों करती है?

Published by suman Published: October 10, 2020 | 11:11 am
tanjaniyaa

सोशल मीडिया से

जयपुर : शादी का नाम सुनते ही जनाब मन में लड्डू फूटने लगते है। हजारों ख्वाब आंखों के सामने आने लगते है और मिलन की आस संजोए दूल्हा-दुल्हन की बेकरारी बढ़ जाती है। ये तो हम दुनिया के हर कोने में होनी वाली शादी की बात कर रहे है। जहां शादी करने का ढ़ंग भले अलग हो पर फीलिंग एक सी होती है। अब जिस शादी की बात करने जा रहे है वो किसी लड़के-लड़की की शादी नहीं , बल्कि इसमें एक महिला दूसरी महिला से शादी करती है और ये सिर्फ शादी नहीं, बल्कि यहां की पंरपरा भी है।

 

ये सबकुछ देखने को मिलता है तंजानिया के एक गांव में। इस गांव में रहने वाली सब महिलाएं है जो ट्राइब्स है।  ये लेस्बियन नहीं होती है। फिर एक महिला दूसरे बकायदा रीति-रिवाजों के साथ कानूनी तौर पर शादी कर लेती है। आइए जानते हैं कि यहां ऐसी शादी क्यों होती है?

 

यह पढ़ें…बिजली विभाग का नोटिस: बनारस में सबसे बड़ा बकायेदार, चुकाने होंगे 515 करोड़

 

 

tanjaniya
सोशल मीडिया से

यहां महिलाएं ऐसा इसलिए करती हैं?


शादी के पीछे लेस्बियन होना वजह नहीं है। केवल पुरुषों को खुद के इशारे पर नचाने के लिए महिलाएं ऐसा करती हैं। क्योंकि उनका वर्चस्व बना रहे और वे ताउम्र अपने घर की मालकिन बनी रहीं।  ये महिलाएं नहीं चाहती हैं कि किसी पुरुष का उन पर अधिकार हो। कोई बाहर का उनके घर और संपति पर हक ना जमाएं । इसलिए वे पुरुषवादी समाज का विरोध करती हैं।

 

पति-पत्नी की भूमिका में महिलाएं

जब इस जनजाति की दो महिलाएं आपस में शादी करती है तो एक पति की भूमिका में  तो दूसरी पत्नी की भूमिका में होती है।इसमें एक घर संभालती है तो दूसरी बाहर काम पर जाती है।इन महिलाओं का कहना है कि अगर कोई पुरुष जबरदस्ती शोषण करने की कोशिश करता है तो उसे वे खुद सजा भी देती है।

 

यह पढ़ें…हाथरस में नकली भाभी: घूंघट के अंदर कोई और, खुलासे से हिला देश

 

women
सोशल मीडिया से

नहीं है पुरुष

दरअसल यहां की महिलाएं खुद को आत्मनिर्भर बनाने और संपत्ति का पूरा हक अपने पास रखने के लिए एक-दूसरे से विवाह कर लेती हैं। पहले ये मात्र एक कार्य हुआ करता था लेकिन वर्तमान में इस कार्य ने परंपरा का रूप ले लिया है। इस परंपरा की वजह से इस गांव में पुरुषों की संख्या ना के बराबर है।

बच्चे के लिए करती है ये काम

महिला (पति) बाकायदा घर से बाहर जाकर काम करती है बल्कि महिला (पत्नी) घर के काम संभालती है। यदि महिला (पत्नी) को बच्चे पैदा करने की जरूरत हो तो वो खुद से किसी व्यक्ति का चुनाव कर सकती है या उसकी महिला (पति) किसी पुरुष का चुनाव करती है।  इसके बाद होने वाले बच्चे को पिता का नाम महिला (पति) ही देती है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App