×

यूपी: आरडीएसओ की स्कैन डिवाइस रेल हादसों से बचाएगी

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 5 Aug 2018 3:49 AM GMT

यूपी: आरडीएसओ की स्कैन डिवाइस रेल हादसों से बचाएगी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

विद्या शंकर राय

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में स्थित अनुसंधान अभिकल्प एवं मानक संगठन (आरडीएसओ) ने एक ऐसी अनोखी डिवाइस तैयार की है, जिसकी मदद से रेलवे को ट्रेन के गुजरने से पहले ही टूटी पटरियों की जानकारी मिल जाएगी। इस उपकरण की मदद से आए दिन होने वाले रेल हादसों से बचा जा सकता है। यह उपकरण अगले तीन महीने के भीतर लगनी शुरू हो जाएगी।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान: बस, टैंकर की टक्कर में 14 की मौत, 30 से अधिक घायल

आरडीएसओ के अधिकारियों के मुताबिक, अल्ट्रासोनिक स्कैन डिवाइस तैयार कर ली गई है। इस डिवाइस की मदद से रेल पटरियों में टूट-फूट तुरंत पकड़ में आ जाएगी और हादसों को टालना आसान हो जाएगा।

रेलवे के सूत्रों के मुताबिक, विभाग रेल पटरियों में टूट-फूट से निपटने के लिए अभी तक सिंगल व डबल रेल टेस्टर स्कैन विधि का इस्तेमाल करता आ रहा था। लेकिन अब दो से तीन महीने में यह मशीन ट्रैक पर लगनी शुरू हो जाएगी और जल्द ही इसका असर दिखने लगेगा।

यह भी पढ़ें: ड्रोन हमले में बाल-बाल बचे वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मदुरो

रेलवे इस तरह के आधुनिक डिवाइस की कमी लंबे अरसे से महसूस कर रहा था। इस डिवाइस के बनने के बाद पटरियों की बेहतर तरीके से जांच की जा सकेगी। इससे रेल हादसों पर लगाम लगने की उम्मीद है।

आरडीएसओ के कार्यकारी निदेशक नवीन कुमार सिन्हा ने कहा, "नई डिवाइस से काफी उम्मीद बंधी है। रेलवे पटरियों में टूट-फूट व अन्य खामियां पकड़ने के लिए अभी तक सिंगल व डबल रेल टेस्टर स्कैनर विधि का इस्तेमाल करता आ रहा है। इस तकनीक में किसी भी तरह की खामियों का डाटा लगातार रिकॉर्ड नहीं हो पाता है।"

उन्होंने बताया कि पुरानी तकनीक के इस्तेमाल में एक ऑपरेटर की भी जरूरत पड़ती थी, जो डाटा पर लगातार नजर रखे रहता था। ऑपरेटर अगर सतर्क नहीं हुआ तो सही डाटा नहीं मिल पाता था।

आरडीएसओ के इस वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि पटरियों की खामियां पकड़ने के लिए इससे उन्नत तकनीक अल्ट्रासोनिक स्कैन विधि विकसित कर ली गई है। इसके जरिए पटरियों की जांच बेहतर तरीके से की जा सकेगी। साथ ही इसमें ऑपरेटर की जरूरत भी नहीं पड़ेगी। यह अपने आप समय व स्थान का डाटा रिकार्ड करता रहेगा। इसे बाद में देखा जा सकेगा।

सिन्हा ने बताया कि साथ ही पुरानी पटरियों के स्कैन से तुलना करने पर पटरियों के बदलाव की जानकारी भी हो सकेगी। आरडीएसओ ने सभी जोनल रेलवे को डिवाइस को लेकर दिशा निर्देश जारी कर दिया है।

उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश ही नहीं, देशभर में रेल हादसों की वजह से लोगों को अपनी जान गवांनी पड़ती है। कई हादसों में जांच रिपोर्ट के बाद भी अक्सर इस बात की जानकारी सामने आती है कि पटरी टूटी होने की वजह से हादसा हुआ। इस नई डिवाइस के लगने के बाद तरह के हादसों पर रोक लगने की उम्मीद है।

--आईएएनएस

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story