×

अपने ज्ञान पर मजाक बनवाने वाले तीरथ सिंह ले रहे अलविदा, लोग याद करेंगे ये हास्यप्रद बातें

भैया अच्छे लोगों की कोई कदर नहीं है। मतलब कलयुग है कलयुग। पढ़ा लिखा, जानकार होना तो जैसे अपराध है महाराज।

Nitendra Verma
Written By Nitendra VermaPublished By Shweta
Published on: 4 July 2021 5:25 AM GMT
तीरथ सिंह
X

तीरथ सिंह ( फोटो सौजन्य से सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

भैया अच्छे लोगों की कोई कदर नहीं है। मतलब कलयुग है कलयुग। पढ़ा लिखा, जानकार होना तो जैसे अपराध है महाराज। अब उत्तराखंड के महाज्ञानी महापुरुष सीएम तीरथ सिंह रावत को ही ले लीजिए। लोग बता रहे हैं कि जाने वाले हैं। इससे बड़ी विडंबना भला क्या सकती है। देश को कितना नुकसान उठाना पड़ेगा कोई अंदाजा है इसका। लोगों की भावनाओं से खेला जा रहा है, मजाक उड़ाया जा रहा है। अपने 115 दिनों के छोटे से कार्यकाल में ही जनता को अपने ज्ञान से ओतप्रोत कर दिए थे। यही तो हैं वो जो भरे कोरोना काल में लोगों को बेहिचक बेझिझक कुम्भ नहाने के लिए बुलाये थे। बोले कइसा कोरोना कउन कोरोना। जांच वांच तो सब मोह माया है। सीधे आइये कुम्भ नहाइये और जमकर नहाइये। अब कुम्भ आता है 12 साल बाद और ससुरा कोरोना मुंह उठा के चला आता है हर साल। तो कुम्भ तो नहाना ही है। अधिकारियों तक को सख्त आदेश दे दिए कि चाहे कुछ हो जाये कुम्भ बेरोकटोक जारी रहेगा ।

मोदी जी भगवान हैं ये हैरतअंगेज खुलासा भी दुनिया के सामने यही किये । मतलब अच्छा खासा सीक्रेट मिशन चल रहा था कि ये सब खुल्लमखुल्ला बता दिए । बताए कि राम जी और कृष्ण जी के बाद भगवान की लिस्ट में नया नाम मोदी जी का ही जुड़ेगा । जनता बेचारी सीधी साधी। इनको पढ़ा लिखा जान के तमाम लोग तो मंदिर भी बनवाने में जुट गए ।

फ़टी जींस से बड़ी दिक्कत है इनको । सही बात है जब जींस ही फ़टी है तो संस्कार कैसे सही सलामत हो सकते हैं । संस्कारी तो वही है जो कम से कम फ़टी जींस तो न ही पहने । अरे एक बार आदमी पहन ले तो भी ठीक है लेकिन महिलाएं भी पहनेंगी तो कैसे चलेगा भला । वैसे तीरथ साहब की बात का लोग गलत मतलब निकाल लिए । उनके निशाने पर तो आजकल के टेलर थे । कायदे से कपड़े सिलते नहीं फिर घुटने दिखने लग जाते हैं । फ़टी जींस तो चल भी जाये लेकिन हॉफ अरे वो शॉर्ट्स का क्या करें । उनके कॉलेज के दिनों में एक मोहतरमा आ गईं शॉर्ट्स में । फिर क्या था । पढ़ाई का तो पता नहीं हैं सारे लड़के जरूर हाथ धोके पीछे पड़ गए ।

अच्छा इस तरह के किस्से साहब को याद भी खूब रहते हैं । फ़टी जींस वाला किस्सा उनकी एक हवाई यात्रा के दौरान का है तो हॉफ वाला उनके कॉलेज टाइम का । मतलब याददाश्त चौकस है । तीरथ जी यहीं नहीं रुके । अपने पिटारे में से एक और निकाले । ये वाला तो एकदम नया था । बताए कि अमेरिका ने भारत पर 200 से भी ज्यादा सालों तक राज किया । जबसे ये वाला छोड़े है तबसे इतिहासकार से लेकर इतिहास की किताबें तक सदमे में हैं । समझ नहीं पा रहे कि ये कहाँ की और कौन सी खुदाई में प्राप्त हुआ है । और इतना ही नहीं । ये तो ये भी बताए कि दो बच्चों वाले माँ बाप को बीस बच्चे पैदा करने वालों से जलना नहीं चाहिए । आखिर ये उनका टैलेंट है । टाइम तो दो वालों के पास भी उतना ही रहा होगा जितना बीस वालों के पास ।

बाकी उत्तराखंड तो ऐसी प्रयोगशाला है कि जब, जहाँ, जैसे मन हो प्रयोग कर डालिये । औ प्रयोग भी ऐसा वैसा नहीं सीधे मुख्यमंत्री का । देखिये न बीजेपी पिछले दस साल की सत्ता में छः सीएम दे चुकी है । तीरथ जी खुद चार महीने पहले ही आये थे । सही है महाराज मौका तो सबको मिलना चाहिए ना। तो भैया अब ये तीरथ बाबू चले जायेंगे तो इस देश की जनता का क्या होगा । ऐसे ज्ञानवर्धक नेता तो अब लुप्त ही हो चुके हैं । कपिल शर्मा शो वैसे भी बंद है । लोगों के एंटरटेनमेंट का क्या होगा । अब जब सोच ही लिए हैं तो जाइये लेकिन...याद बहुत आओगे ।

Shweta

Shweta

Next Story