×

International Yoga Day 2022: दृष्टि से दृष्टा तक की यात्रा कराता है योग, पढ़ें वरिष्ठ पत्रकार योगेश मिश्र का ये लेख

Yogesh Mishra
Updated on: 2022-06-21T08:31:22+05:30
International Yoga Day 2022: दृष्टि से दृष्टा तक की यात्रा कराता है योग, पढ़ें वरिष्ठ पत्रकार योगेश मिश्र का ये लेख
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

International Yoga Day 2022: तमाम लोग भले ही अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को महज एक विशिष्ट आयोजन के तौर देख रहे हैं पर सच तो यह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में यह आयोजन सबसे ज्यादा फायदा पहुंचाने वाले निर्णायक फैसलों में से एक के तौर पर याद किया जाएगा। एक ऐसा फैसला जो घरेलू मोर्चे से वैश्विक फलक तक और बाजार से लेकर विपक्ष की राजनीति पर सीधा असर डालने वाला साबित हुआ है। इस फैसले के मार्फत मोदी ने अंतरराष्ट्रीय क्षितिज पर न केवल अपनी पहचान को और समृद्ध किया है बल्कि धर्म और आध्यात्म गुरु कहलाए जाने के भारत के दावे को पुख्ता भी किया है।

जिस योग के मार्फत नरेंद्र मोदी ने भारत के पुराने गौरव को महिमामंडित करने में कामयाबी पाई है, उसे लेकर विवाद और वितंडा चाहे जितना किया जाए पर इस हकीकत से आंख नहीं फेरी जा सकती कि यह सब व्यर्थ की बकवास साबित हुआ है। दुनिया के 193 देशों ने योग दिवस को मान्यता दी है। 177 देशों ने बाकायदा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया। इसमें 46 मुस्लिम देश भी शामिल हैं।

नरेंद्र मोदी योगा करते हुये (फ़ाइल फोटो)

योग के पर्याय बन चुके महर्षि पतंजलि ने तक्षशिला में योग की शिक्षा पाई थी। यह आज के पाकिस्तान में है। अमेरिका से इंडोनेशिया तक योगा रिसार्ट खुल गए हैं। योग दिवस दिवस मानने के नरेंद्र मोदी के प्रस्ताव पर जितने देशों की सहमति हासिल हुई संयुक्त राष्ट्र संघ के इतिहास में किसी प्रस्ताव पर इतने देशों में एका नहीं देखा गया। योग भारत की गौरवमयी परंपरा का हिस्सा है पर यह मोदी मैजिक ही है कि इसे दुनिया ने सिर माथे पर बिठाया। कभी सोने की चिडिय़ा कहे जाने वाले हमारे देश ने योग ही नहीं ईसा पूर्व पांचवीं शताब्दी में चरक संहिता के मार्फत आयुर्वेद का ज्ञान कराया।

वैदिक युग में रसायनशास्त्र के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के खनिजों का अध्ययन किया जाता था। वैदिक काल तक अनेक खनिजों की खोज हो चुकी थी। उनका व्यावहारिक प्रयोग भी होने लगा था। बौद्ध विद्वान नागार्जुन ने 280-320 ई. में इस दिशा में सबसे ज्यादा काम किया। वैदिक साहित्य में ही सूर्य, चन्द्र, पृथ्वी, नक्षत्र, ऋतु, मास, अयन आदि की स्थितियों पर गंभीर अध्ययन मिलता है। इस विषय में हमें 'वेदार्घ ज्योतिष' नामक ग्रंथ प्राप्त होता है। इसके रचना का समय 1200 ई.पू. माना गया है। आर्यभट्ट और वराहमिहिर ज्योतिष गणित के सबसे बड़े विद्वान के रूप में माने जाते हैं। मात्र 23 वर्ष की उम्र में आर्यभट्ट ने 'आर्यभट्टीय' नामक प्रसिद्ध ज्योतिष ग्रंथ की रचना की। दुनिया को शून्य और दशमलव भारत की देन है। इसने गणितीय जटिलताओं को खत्म कर दिया। दिगम्बर जैन मुनि सर्वनंदी ने अपने लोकविभाग ग्रंथ में शून्य का इस्तेमाल कर इसके दस्तावेजी प्रमाण दे दिए थे। इस ग्रंथ में दशमलव संख्या पद्धति का भी उल्लेख है। बाद में आर्यभट्ट ने स्थानं स्थानं दसा गुणम् अर्थात् दस गुना करने के लिए शून्य का जिक्र करके यह जता दिया कि दशमलव सिद्धांत का उदगम् भारत ही है।

योग करती महिलाएं (फ़ाइल फोटो)

अंकगणित, बीजगणित और रेखागणित तीनों भारत की देन हैं। 'यजुर्वेद' में एक से लेकर 10 खरब तक की संख्याओं का उल्लेख मिलता है। बीजगणित के अविष्कार पर कुछ विवाद के बावजूद अब यह साबित हो चुका है कि भारतीय विद्वान आर्यभट्ट (446 ई.) ने ही बीजगणित का विकास किया। रेखागणित का अविष्कार भी वैदिक युग में ही हो गया था। यही नहीं, अर्थशास्त्र और अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भी दुनिया का सिरमौर है। इन विद्याओं से जुड़ी प्राचीनतम पुस्तकें भारतीय विद्वानों की ही हैं। पर यह कितना दुर्भाग्यपूर्ण है कि दुनिया इस सच को स्वीकार करने को तैयार नहीं है। हम इस सच को स्वीकार करवा पाने की स्थिति में नहीं रहे। लेकिन उत्तरी गोलार्ध के सबसे लंबे दिन को नरेंद्र मोदी ने एक ऐसी सच्चाई दुनिया को कुबूल करने को मजबूर कर दी जिससे भारत के अन्य क्षेत्रों में भी अगुवा होने का मार्ग प्रशस्त होता है।

यह एक ऐसी सच्चाई है जिसे देश के बारे में सोचने वाले किसी भी शख्स को कुबूल करने में कोई गुरेज नहीं होना चाहिए। जिस योग को लेकर दुनिया में भारत की पहचान मजबूत हुई है इसके पेटेंट की भी लंबी लड़ाई भारत को अमेरिका से लडऩी पड़ी है। भारत हथियार बनाने में अगुवा नहीं हो सकता। पैसा कमाने में अगुवा नहीं हो सकता। ऐसे में नरेंद्र मोदी ने एक ऐसे क्षेत्र में भारत की अगुवाई कुबूल करवाई जिस क्षेत्र में भारत लंबे समय से अपनी प्रतिष्ठा का हकदार था। आज जब पूरी दुनिया में 'वेलनेस इंडस्ट्री' सबसे तेजी से बढ़ रहा एक समृद्ध सेक्टर है जहां अरबों-खरबों डालर का व्यापार है। ऐसे में जब भारत इसका अगुवा होगा तो नि:संदेह भारत के लोग ही विशेषज्ञ होंगे,उन्हें ही जगह मिलेगी।

कम से कम मोदी ने यह तो मुकम्मल करा ही लिया है। मोदी का यही मैजिक है कि विपक्ष या तो पलायन आसन में चला गया अथवा मोदी के सामने शीर्षासन करने लगा। धर्मनिरपेक्षता की ओट लेकर जो लोग यह बताने की कोशिश कर रहे थे कि योग हिंदू है, उन्हें भी इस आयोजन के जरिए जवाब मिल गया है।

आयोजन के बाद योग को लेकर विवाद और वितंडा खड़ा करने वालों के सवालों का जवाब देना भी अनिवार्य हो जाता है। आजकल डॉक्टरों का एक बड़ा तबका योग को लेकर यह आरोप मढ़ता है कि योग बीमारी का इलाज नहीं है। यह सच भी है। पर यह भी उतना ही बड़ा सच है कि योग बीमारी आने की प्रतीक्षा नहीं करता। वह ऐसी स्थिति बनाता है कि बीमारी आए ही ना। अगर दुनिया के लोग इसे लेकर सचेत होते हैं तो यह स्वास्थ्य रक्षण का सबसे व्यापक, सबसे लोकप्रिय और सबसे कम समय लेने वाला तरीका है। इससे हर कोई लाभान्वित हो सकता है।

योग में स्वस्थ काया की गारंटी छिपी होती है। योग में शास्त्रीय और अनुभवात्मक ज्ञान तथा आधुनिक दृष्टिकोण का समन्वय है। शरीर मन और आत्मा तीनों का योग करता है योग। यह इन तीनों को ऐसे ही बांधता है जैसे हमारी मांसपेशियां अपने तंतुओं से जुड़ी रहती हैं।

अपने समय के लोकप्रिय गिटारवादक जार्ज हैरिसन ने यह कुबूल किया था कि उनकी सफलता का राज भारतीय यौगिक क्रियाएं हैं। यही नहीं दुनिया के पहले सौर्य विमान इंपल्स-2 के पायलट बर्टेड पिकार्ड और सह पायलट अंद्रिबोस बर्ग भी यह कुबूल करते हैं कि इस विमान को उड़ाने की कामयाबी के पीछे योग है। कुछ ही महीनों पहले दिवंगत हुए दुनिया के सबसे बड़े योग प्रशिक्षक वी.के.एस.आयंगर को 2004 में टाइम मैगजीन ने दुनिया की 100 महत्वपूर्ण शख्सियतों में शुमार किया था। योग दृष्टि से दृष्टा तक की यात्रा कराता है। योग शक्ति और मुक्ति दोनों प्रदान करता है। शक्ति लडऩे के लिए और मुक्ति छोडऩे के लिए। योग जीवन को चेतना का मंत्र देता है। जीवन के बारे में यह सत्य हम भूलते जा रहे हैं कि हमें भगवान की तरफ से उम्र नहीं सांस मिलती है। वृहदारण्यक उपनिषद में सांसों पर नियंत्रण का जिक्र है। सुदूर गांवों में आज भी मौत का संदेश देने के लिए कहा जाता है कि सांस टूट गई। योग सांस पर नियंत्रण पर तकनीक सिखाता है। इसमें सिद्धहस्त करता है।

आमतौर पर हमें अपने जीवन के लिए जितनी ऑक्सीजन की जरूरत होती है हम नहीं ले पाते। हमें सांस नाभि से लेना चाहिए हम नहीं लेते हैं। नतीजतन सबकुछ तो शरीर के लिए पर्याप्त मिल जाता है ऑक्सीजन नहीं। ऑक्सीजन का ना मिलना आदमी को थकाता है। जब हम यौगिक क्रिया के तहत सांस लेते हैं और फिर रोकते हैं ऑक्सीजन हमारे भीतर के तंतुओं तक पहुंचती है।

एक धारणा यह भी है कि कोई घाव महज इसलिए नहीं ठीक होता कि आप एंटीबायटिक दवा खाते हैं बल्कि उसके ठीक होने की वजह यह भी है कि आपका ध्यान घाव वाले स्थान पर ज्यादा हो जाता है। उस स्थान का आप ध्यान रखने लगते हैं। योग की क्रियाओं के साथ ही ध्यान, धारणा और समाधि के भी चरण है। ध्यान और धारणा के चरण में आप अपने ही पूरे शरीर में खुद उतरते हैं। उसे बंद आंखों से महसूस करते हैं। योग सिर्फ क्रिया नहीं है। इसके उपांग हैं- ज्ञानयोग, भक्ति या प्रेमयोग, कर्मयोग, राजयोग, हठयोग।

मोदी ने सरकारी हठयोग से विपक्ष को ज्ञानयोग सिखाया है तो कर्मयोग से पूरी दुनिया को योग को कुबूल करने के लिए मजबूर किया है। भक्ति और प्रेमयोग के मार्फत योग दिवस को गली कूचों से लेकर राजपथ और संयुक्त राष्ट्र तक स्थापित करने में जो कामयाबी पाई है वह उन्हीं के सम्पूर्ण स्वच्छता अभियान से ज्यादा बड़ी है। यह मोदी के लिए गौरव भी है और प्रेरणा भी।

(लेखक अपना भारत/न्यूज़ट्रैक के संपादक हैं)

raghvendra

raghvendra

राघवेंद्र प्रसाद मिश्र जो पत्रकारिता में डिप्लोमा करने के बाद एक छोटे से संस्थान से अपने कॅरियर की शुरुआत की और बाद में रायपुर से प्रकाशित दैनिक हरिभूमि व भाष्कर जैसे अखबारों में काम करने का मौका मिला। राघवेंद्र को रिपोर्टिंग व एडिटिंग का 10 साल का अनुभव है। इस दौरान इनकी कई स्टोरी व लेख छोटे बड़े अखबार व पोर्टलों में छपी, जिसकी काफी चर्चा भी हुई।

Next Story