Top

अरुण जेटली की सेहत में नहीं हो रहा सुधार, हाल जानने AIIMS पहुंचीं मायावती

अरुण जेटली सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील भी हैं। साथ ही, वह मोदी सरकार-1 में वित्त मंत्रालय संभाल चुके हैं। मोदी सरकार-2 में जेटली ने बीमार होने के कारण कैबिनेट में शामिल होने से मना कर दिया। इसके लिए जेटली ने पीएम मोदी को पत्र लिखा था।

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 17 Aug 2019 7:45 AM GMT

अरुण जेटली की सेहत में नहीं हो रहा सुधार, हाल जानने AIIMS पहुंचीं मायावती
X
अरुण जेटली की सेहत में नहीं हो रहा सुधार, हाल जानने AIIMS पहुंचीं मायावती
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की सेहत में कोई सुधार नहीं हो रहा है। उनकी हालत अभी नाजुक बनी हुई है। ऐसे में जेटली से मिलने तमाम दिग्गज नेता एम्स पहुंच रहे हैं। शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी एम्स पहुंचे। वहीं, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज एक बार फिर जेटली का हाल जानने आज शाम तक एम्स पहुंच सकते हैं।

यह भी पढ़ें: हाई अलर्ट: आतंकी योजना बनाने में जुटा पाकिस्तान, हरकतों से नहीं आ रहा बाज

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्री गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री जीतेंद्र सिंह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जेटली का हाल जानने एम्स पहुंचे।

यह भी पढ़ें: यूपी: मंत्रिमंडल विस्तार उपचुनाव व संगठन में फेरबदल की चुनौती

वैसे अरुण जेटली को देखने सिर्फ बीजेपी के दिग्गज नेता ही नहीं बल्कि विपक्ष के नेता भी आ रहे हैं। बसपा मुखिया मायावती भी जेटली का हालचाल लेने एम्स पहुंची। बीएसपी चीफ मायावती पार्टी के वरिष्ठ नेता सतीश मिश्रा के साथ एम्स पहुंचीं।

10 अगस्त को नहीं जारी किया मेडिकल बुलेटिन

बता दें, 10 अगस्त को एम्स ने जेटली की हेल्थ को लेकर कोई मेडिकल बुलेटिन जारी नहीं किया गया था। वहीं बताया जा रहा है कि जेटली के फेफड़ों में पानी जमा हो रहा है और डॉक्टरों ने उन्हें वेंटिलेटर पर रखा है। जेटली को सॉफ्ट टिशू सरकोमा है, जो एक प्रकार का कैंसर होता है। जेटली पहले से डायबिटीज के मरीज हैं। उनका किडनी ट्रांसप्लांट हो चुका है।

यह भी पढ़ें: रेलवे से भी मिली आजादी के सेनानियों को काफी मदद

मालूम हो, अरुण जेटली सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील भी हैं। साथ ही, वह मोदी सरकार-1 में वित्त मंत्रालय संभाल चुके हैं। मोदी सरकार-2 में जेटली ने बीमार होने के कारण कैबिनेट में शामिल होने से मना कर दिया। इसके लिए जेटली ने पीएम मोदी को पत्र लिखा था।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story