Top

चंद्रशेखर की पार्टी का एलान: ये है नाम, यूपी चुनाव में इन दलों को देगी टक्कर

भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर आजाद ने सक्रिय राजनीति में उतरने का ऐलान कर दिया है। इसी कड़ी में रविवार को नोएडा में उन्होंने नई पार्टी की घोषणा कर दी। उनकी नई पार्टी का नाम होगा-'आजाद समाज पार्टी'।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 15 March 2020 10:49 AM GMT

चंद्रशेखर की पार्टी का एलान: ये है नाम, यूपी चुनाव में इन दलों को देगी टक्कर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा: भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर आजाद ने सक्रिय राजनीति में उतरने का ऐलान कर दिया है। इसी कड़ी में रविवार को नोएडा में उन्होंने नई पार्टी की घोषणा कर दी। उनकी नई पार्टी का नाम होगा-'आजाद समाज पार्टी'। हालाँकि नई पार्टी के एलान से पहले कार्यक्रम स्थल पर भीम आर्मी के कार्यकर्ता और पुलिस प्रशासन आमने-सामने होते दिखे। पुलिस ने चंद्रशेखर के कार्यक्रम को रोक दिया था। बाद में अनुमति भी दे दी।

पार्टी के एलान से पहले आमने सामने आई भीम आर्मी

दरअसल जिला प्रशासन ने कोरोना वायरस के चलते मनोरंजन, सार्वजनिक व सामूहिक कार्यक्रमों पर रोक लगा रखी है। भीम आर्मी ने कार्यक्रम स्थल के लिए जो जगह चुनी, वहां पर पुलिस ने रोक लगाते हुए कार्यक्रम स्थल पर ताला जड़कर नोटिस चस्पा कर दिया है।

ये भी पढ़ें: कांग्रेस में ताबड़तोड़ इस्तीफे जारी: MP के बाद अब गुजरात में 4 विधायकों ने छोड़ा साथ

जिला प्रशासन के मुताबिक कोरोना वायरस के चलते आप कहीं भी पब्लिक मीटिंग या किसी तरीके का कोई कार्यक्रम नहीं कर सकते। लिहाजा बड़ी संख्या में भीम आर्मी के समर्थक और कार्यकर्ताओं की पुलिस अधिकारियों से नोकझोंक हुई।

जिला प्रशासन ने चस्पा किया नोटिस

बता दें कि साल 2022 में यूपी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर चंद्रशेखर का यह कदम पश्चिमी उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक नया समीकरण बना सकता है। सहारनपुर में दलित और ठाकुरों में टकराव के बाद भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर चर्चा में आए थे।

ये भी पढ़ें: फ्लोर टेस्ट से पहले सीएम कमलनाथ ने चला ये बड़ा दांव, बीजेपी में हलचल

युवाओं में चन्द्रशेखर को लेकर क्रेज़

चन्द्रशेखर उसी जाटव जाति से आते हैं जिस जाति की मायावती हैं। ऊपर से दलित युवाओं में चन्द्रशेखर को लेकर थोड़ा क्रेज़ बढ़ा है, हालांकि अजय बोस ने ये भी बताया कि चन्द्रशेखर बसपा की जगह तो नहीं ले सकते, लेकिन अपनी अलग पार्टी की पहचान से बसपा को नुकसान जरूर पहुंचा सकते हैं।

ये भी पढ़ें: MP का नया सियासी ड्रामा: कांग्रेस-बीजेपी में बैठकों का दौर ज़ारी

उन्होंने ये भी कहा कि मौजूदा दौर में मायावती की राजनीतिक साख गिरती जा रही है और दलित पॉलिटिक्स में एक वैक्यूम बन गया है। अब इसे चन्द्रशेखर रावण कितना भर पाते हैं, ये समय बतायेगा।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story