Top

यूपी की राजनीति में नई पार्टी की एंट्री: ऐसे बदलेगा चुनावी समीकरण

उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक नए दल की आज एंट्री हो सकती है। यह दल यूपी की राजनीतिक समीकरण बदलने में अहम भूमिका निभा सकता है। पार्टी के गठन से बसपा और सपा को सीधे टक्कर मिलने की संभावना है।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 15 March 2020 6:11 AM GMT

यूपी की राजनीति में नई पार्टी की एंट्री: ऐसे बदलेगा चुनावी समीकरण
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक नए दल की आज एंट्री हो सकती है। यह दल यूपी की राजनीतिक समीकरण बदलने में अहम भूमिका निभा सकता है। पार्टी के गठन से बसपा और सपा को सीधे टक्कर मिलने की संभावना है। दरअसल, भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद रविवार को नोएडा में अपनी पार्टी की घोषणा करेंगे। ऐसे में आगामी यूपी विधानसभा 2022 में प्रदेश की राजनीति में बड़े बदलावों की अटकलें लग रही हैं।

आज करेंगे पार्टी का ऐलान:

भीम आर्मी के चीफ चंद्र शेखर आजाद आज अपनी राजनीतिक पार्टी का ऐलान करने वाले हैं। पार्टी का गठन बसपा और सपा के सामने एक चुनौती माना जा रहा है। इतना ही नहीं भाजपा की सरकार के खिलाफ भी चन्द्रशेखर लगातार खड़े हो रहे हैं।

ये भी पढ़ें: इस दिन कमलनाथ का फ्लोर टेस्ट, MP की सत्ता में रहने के लिए देंगे अग्निपरीक्षा

पार्टी का हो सकता है ये नाम:

चन्द्रशेखर की पार्टी के नाम पर कई नामों पर अटकलें लग रही हैं। इनमें आजाद बहुजन पार्टी, बहुजन आवाम पार्टी और आजाद समाज पार्टी के नाम पर चर्चा हो रही है। बताया जा रहा है कि बसपा समेत कई पार्टियों के नेता और कार्यकर्ता चंद्रशेखर की नई पार्टी से जुडे़ंगे। वहीं चंद्रशेखर मेरठ के युवा सेवा समिति के अध्यक्ष बदर अली को बड़ी जिम्मेदारी सौंप सकते हैं।

ये भी पढ़ें: BJP नेताओं के खिलाफ पोस्टर लगाने पर फंसी कांग्रेस, लिया गया ये एक्शन

नोएडा में कार्यक्रम:

इस बारे में भीम आर्मी के मेरठ जिलाध्यक्ष विकास हरित ने बताया कि पार्टी की घोषणा का कार्यक्रम दिल्ली में होना था। जिसमें बड़ी संख्या में लोगों को जुटना था। लेकिन कोरोना वायरस के अलर्ट के चलते उन्हें दिल्ली में अनुमति नहीं मिली। इसके बाद नोएडा में बड़े कार्यक्रम को टालते हुए प्रेसवार्ता रखी गई है। जिसमें चंद्रशेखर पार्टी की घोषणा करेंगे।

ये भी पढ़ें: पंचायत चुनाव 2020: आज तय होगा ‘गांव में किसकी सरकार’, मतदान शुरू

सरकार के खिलाफ लगातार हो रहे खड़े:

बता दें कि चंद्र शेखर उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में दलित और ठाकुरों के बीच के टकराव के दौरान उभर के सामने आये थे। इसके बाद से वे लगातार केंद्र व यूपी सरकार को चुनौती दे रहे हैं। वहीं हाल ही में नागरिकता संशोधन कानून मामले में दिल्ली में खुलकर सरकार का विरोध करने पर चंद्रशेखर को जेल भेजा गया था।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story