वीडियो: ‘चंद्रबाबू’ पर फेंकी गई चप्पलें,लगाए गए ‘गो बैक नायडू’ के नारे

अमरावती में निर्माण कार्यों का जायजा लेने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू को ले जा रही बस पर चप्पल फेंकी गई। यह घटना उस समय हुई जब टीडीपी प्रमुख की बस वेंकटापलेम के पास से गुजर रही थी।

Published by Aditya Mishra Published: November 28, 2019 | 3:38 pm
Modified: November 28, 2019 | 3:42 pm

अमरावती: अमरावती में निर्माण कार्यों का जायजा लेने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू को ले जा रही बस पर चप्पल फेंकी गई। यह घटना उस समय हुई जब टीडीपी प्रमुख की बस वेंकटापलेम के पास से गुजर रही थी।

चंद्रबाबू नायडू से नाराज किसानों ने न केवल उनके काफिले पर चप्पल फेंकी बल्कि ‘गो बैक नायडू’ के नारे भी लगाए। इस दौरान गुस्साए किसान अपने हाथों में बैनर लिए हुए दिखाई दिए। हालांकि इस बीच सुरक्षाबलों ने किसी तरह नायडू के काफिले को भीड़ से बाहर निकाला और उन्हें रवाना किया।

ये भी पढ़ें…मिट्टी में मिलाया जा रहा चंद्रबाबू नायडू का जनता दरबार ‘प्रजा वेदिका’

बता दें कि अमरावती में हाल में हुई घटनाओं को देखते हुए पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने अमरावती में निर्माण कार्यों के स्थल का दौरा करने का फैसला किया। इसी सिलसिले में वह किसानों से भी मिलने वाले थे लेकिन जब उनका काफिला वहां पहुंचा तो किसानों ने उन्हें उल्टे पांव वापस भेज दिया।

एनडीए से अलग हुए थे चंद्रबाबू नायडू

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने से केंद्र के इनकार से नाराज टीडीपी ने नरेंद्र मोदी की सरकार से हटने के कुछ दिनों बाद ही एनडीए से हटने का निर्णय भी लिया था।

पार्टी द्वारा जारी आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया था कि राज्य के साथ हुए अन्याय के मद्देनजर पार्टी मोदी सरकार के खिलाफ एक अविश्वास प्रस्ताव लाएगी। यह अविश्वास प्रस्ताव लाने के साथ ही पार्टी ने महागठबंधन के निर्माण के प्रयासों के बीच कांग्रेस से हाथ भी मिलाए थे।

ये भी पढ़ें…चंद्रबाबू नायडू ने कहा- राहुल गांधी देश के लिए सोचने वाले अच्छे नेता

भूमि पुलिंग मॉडल के तहत 29 गांवों के किसानों ने दी थी जमीन

किसानों के एक समूह ने हाल ही में राजधानी को स्थानांतरित करने के किसी भी कदम के खिलाफ अमरावती उच्च न्यायालय का रुख किया था। इन किसानों ने भूमि पूलिंग मॉडल के तहत नायडू के शासनकाल के दौरान 29 गांवों में अपनी भूमि को दे दिया था।

बुधवार को अमरावती क्षेत्र के अंतर्गत 29 गांवों में से एक रायपुडी में दलित किसानों के एक समूह ने मांग की कि नायडू उनके शासन में भूमि पूलिंग प्रक्रिया में उनके निर्दिष्ट भूमि के लिए दिए गए मुआवजे राशि में भेदभाव करने के लिए पहले माफी मांगे। किसानों के समूह ने काले झंडों के साथ एक रैली की, जिसमें नायडू के उनके गांवों के दौरे का विरोध किया गया।

आंध्र प्रदेश में वाईएसआरसीपी का समर्थन कर रहे किसानों का प्रदर्शन उग्र हो गया, इस दौरान किसानों ने पूर्व मुख्यमंत्री और टीडीपी प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

गुरुवार को चंद्रबाबू नायडू का काफिला अमरावती के पास वेंकटापलेम से गुजर रहा था तभी प्रदर्शन कर रहे किसानों ने उनकी बस को घेर लिया। चंद्रबाबू के साथ कुछ कार्यकर्ता भी वहां मौजूद थे जिनकी किसानों के साथ झड़प हो गई जिसके बाद तनाव और बढ़ गया है।

ये भी पढ़ें…नई सरकार बनते ही चंद्रबाबू नायडू को घर खाली करने का आदेश, पढ़ें पूरी खबर