जगनमोहन 1 अगस्त से येरुशलम की यात्रा पर, सुरक्षा पर खर्च होंगे इतने लाख रुपये

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी एक से चार अगस्त के दौरान येरुशलम की यात्रा पर रहेंगे। विदेश में उनकी सुरक्षा का जिम्मा इजरायली कंपनी को सौंपा गया है।

Published by Aditya Mishra Published: August 2, 2019 | 6:10 pm
Modified: August 2, 2019 | 6:15 pm

नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी एक से चार अगस्त के दौरान येरुशलम की यात्रा पर रहेंगे। विदेश में उनकी सुरक्षा का जिम्मा इजरायली कंपनी को सौंपा गया है।

इस काम के बदले आंध्र प्रदेश सरकार की ओर से इजरायली कम्पनी को 22.5 लाख रुपये आवंटित किए हैं। यह कंपनी रेड्डी की चार दिनों की निजी येरुशलम यात्रा के दौरान उनकी सुरक्षा कि जिम्मेदारी उठाएगी।

31 जुलाई को राज्य के सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) ने मुख्यमंत्री की एक से चार अगस्त के दौरान येरुशलम यात्रा में उनकी सुरक्षा के लिए 22,52,500 रुपये जारी करने का आदेश जारी किया।

आदेश में कहा गया है, ‘आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी एक अगस्त से चार अगस्त के बीच निजी कारणों से इजरायल के येरुशलम की यात्रा करेंगे।

उनकी सुरक्षा व्यवस्था के लिए 22,52,500 रुपये की राशि आवंटित की जाती है।’ सुरक्षा व्यवस्था के लिए 22,52,500 की राशि के लिए ट्रिपल एस टूर्स एंड ट्रेवल्स, 96, हर्जेल, सेंट रेहोवोट, इजराइल से चालान पर राशि स्वीकृत की गई है।

ये भी पढ़ें…एक्ट्रेस पर 60 लाख सिर्फ इसके चक्कर में लुटा दिये, लेकिन हो गया कांड

यहां जानिए कब- कब कितने रुपये किये गये खर्च

22 जुलाई को सरकारी आदेश (संख्या -160) के माध्यम से सरकार ने जगन के हैदराबाद में बंजारा हिल्स में स्थित उनके आवास लोटस पॉन्ड में सुरक्षा उपलब्ध कराने के लिए 24.5 लाख रुपये जारी किए।

25 जून को एक अन्य आदेश (संख्या 132) के अनुसार जगन के आवास को राष्ट्रीय राजमार्ग 16 को जोड़ने वाली सड़क को चौड़ा करने के लिए पांच करोड़ रुपये की राशि जारी की गई थी। नारा लोकेश जैसे विपक्षी टीडीपी नेताओं ने जगनमोहन सरकार के इन खर्चों को राजकोष पर बोझ बताया है।

26 जून को एक सरकारी आदेश (संख्या 133) के अनुसार उनकी सुरक्षा को मजबूत करने के लिए 1.89 करोड़ रुपये खर्च किए गए।  इसमें 75 लाख रुपये स्थायी बैरीकेडिंग और 40 लाख रुपये हेलिपैड, उसकी चाहरदीवारी और उनके गुंटूर में टडेपल्ली स्थित निवास के पास एक संपर्क मार्ग बनाने के लिए थे।

बताते चले कि यह खर्चा ऐसे समय पर सामने आया है जब वाईएसआर कांग्रेस के नेता नकदी संकट से जूझ रहे राज्य में खर्चों को कम करने के उपाय कर रहे हैं। रेड्डी दो महीने पहले ही राज्य की सत्ता पर काबिज हुए हैं।

ये भी पढ़ें…जानिए कैसे, कुलदीप सिंह सेंगर की बर्बादी के सबसे असली विलेन हैं अखिलेश यादव

प्रदेश के मुख्य सचिव ने दी ये सफाई

प्रदेश के मुख्य सचिव एलवी सुब्रमण्यम का इस विषय पर कहना है कि राज्य के सीएम की सुरक्षा पर खर्च कोई पहली बार नहीं हो रहा है।

बल्कि इसके पूर्व में भी ऐसा होता आया है। हमारे सुरक्षा अधिकारी, अगर वो सीएम के साथ भी हों तो भी उन्हें हथियार रखने की इजाजत नहीं होती। इस कारण से व्यवस्थाएं संभालने का जिम्मा एजेंसी को दिया गया है।

ये भी पढ़ें…सऊदी अरब : पिता और पति से छिन गया हक, अब महिलाएं भी कर सकेंगी ये काम