Top

ये डेट करेगी कमलनाथ के भाग्य का फैसला, जानिये किसने दी

फिलहाल विधानसभा का सत्र स्थगित होने को कमलनाथ की जीत कहा जा सकता है क्योंकि राज्यपाल के स्पष्ट निर्देशों के बावजूद विधानसभा अध्यक्ष ने सत्र 26 मार्च तक स्थगित कर दिया है। इससे भाजपा खेमे पर विधायकों को लंबे समय तक रोके रखने की मुसीबत आ गई है जो कि फिलहाल की स्थितियों में आसान नहीं है।

राम केवी

राम केवीBy राम केवी

Published on 16 March 2020 9:30 AM GMT

ये डेट करेगी कमलनाथ के भाग्य का फैसला, जानिये किसने दी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ को भले ही विधानसभा का सत्र स्थगित कराने में कामयाबी मिल गई हो लेकिन उनकी सरकार की स्थिति संभलती नहीं दिखायी दे रही है। राजनीतिक विश्लेषकों का भी यही मानना है कि दो अप्रैल तक कमलनाथ सरकार चली जाएगी और इसके बाद राजस्थान और महाराष्ट्र की सरकारों का भी नंबर लगेगा।

ताजा स्थिति यह है कि मध्य प्रदेश विधानसभा का सत्र 26 मार्च तक के लिए स्थगित हो गया है। इसमें कई फैक्टर हैं पहला ये कि कमलनाथ ने राज्यपाल को पत्र लिखकर कहा था कि वर्तमान स्थिति में जब तक कि कांग्रेस विधायक जिन्हें भाजपा ने बेंगलुरु में पुलिस की मदद से बंधक बनाया हुआ है वह आ नहीं जाते। दूसरा फैक्टर कोरोना वायरस का बताया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें

कमलनाथ के 10 दिन: क्या बचा पाएंगे सत्ता या BJP के इन विकल्पों से गिरेगी सरकार

फिलहाल विधानसभा का सत्र स्थगित होने को कमलनाथ की जीत कहा जा सकता है क्योंकि राज्यपाल के स्पष्ट निर्देशों के बावजूद विधानसभा अध्यक्ष ने सत्र 26 मार्च तक स्थगित कर दिया है। इससे भाजपा खेमे पर विधायकों को लंबे समय तक रोके रखने की मुसीबत आ गई है जो कि फिलहाल की स्थितियों में आसान नहीं है।

इसे भी पढ़ें

कमलनाथ को मिला विपक्षी दलों का साथ, इस पार्टी के अध्यक्ष ने साध रखी है चुप्पी

हालांकि दूसरी ओर भाजपा समर्थित विश्लेषकों का कहना है कि अब तो कांग्रेस के और विधायक भी टूट कर आएंगे। आज के घटनाक्रम से यह स्पष्ट हो गया है कि कमलनाथ अपनी अल्पमत सरकार का फ्लोर टेस्ट कराने से कतरा रहे हैं।

कितना सफल होता है ये फैक्टर

मध्य प्रदेश में राजनीतिक विश्लेषकों के अलावा एक और फैक्टर भी बहुत काम करता है वह ज्योतिषियों और तांत्रिकों का। सत्ता पर जब जब संकट आता है चाहे वह दिग्विजय हों, कमलनाथ या फिर ज्योतिरादित्य सिंधिया और शिवराज सिंह चौहान सभी ज्योतिषियों और तांत्रिकों की शरण में भागते हैं। ऐसे मौके पर मध्यप्रदेश में बड़े बड़े अनुष्ठान शुरू हो जाते हैं।

मध्यप्रदेश की फिजां में तैर रही दो अप्रैल की डेट भी इन्हीं ज्योतिषियों और तांत्रिकों के मठों से निकली बतायी जाती है। नतीजा चाहे जो हो देखना यह है कि कमलनाथ सरकार ये गिनती के दिन पूरे कर पाती है या डूब जाती है।

राम केवी

राम केवी

Next Story