×

डिप्‍टी सीएम की खातिर छुड़वाई बच्‍चों की पढ़ाई, अधिकारियों ने जुगाड़ से जुटाई भीड़

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 27 Oct 2018 9:33 AM GMT

डिप्‍टी सीएम की खातिर छुड़वाई बच्‍चों की पढ़ाई, अधिकारियों ने जुगाड़ से जुटाई भीड़
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

शाहजहांपुर: उपमुख्यमंत्री के कार्यक्रम में जब भीड़ नहीं इकठ्ठा हो पाई तो डिप्टी सीएम को खुश करने के लिए यहां स्कूल छात्र छात्राओं को बुलाकर भीड़ जुटाई गई। इतना ही नहीं जिस जगह पर सम्मान समारोह चल रहा था, वह एक इंटर कालेज था। लेकिन कार्यक्रम के चलते यहां छुट्टी करा दी गई और सभी शिक्षक कार्यक्रम में शामिल हो गए। अब सवाल ये उठता है कि इन बच्चों के लिए सबसे ज्यादा जरूरी शिक्षा है या फिर उनको खुश करने के लिए इनको भीड़ का हिस्सा बना दिया गया।

ये भी देखें:जानिए इस करवाचौथ पर क्यों परेशान है यूपी के जिलों में तैनात सीडीओ की पत्नियां!

बच्‍चों को नहीं पता किस नेता को सुन रहे

दरअसल आज शहीदों का सम्मान समारोह के कार्यक्रम मे डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा आज कार्यक्रम मे शामिल हुए थे। उनके कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बीजेपी कार्यकर्ताओं और यहां शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने डिप्टी सीएम को खुश करने के लिए सारी हदें पार कर दी। यहां स्कूल की पढाई को दरकिनार करते हुए इंटर कालेज मे डिप्टी सीएम का कार्यक्रम रखा गया। जिससें बच्चो की पढाई नहीं हो सकी। स्कूल के सभी छात्रों को डिप्टी सीएम के कार्यक्रम में भीड़ बढ़ाने के लिए बुला लिया गया। बच्चों को ये भी नहीं पता था कि आखिर वह किस नेता को सुन रहे हैं। बच्चों को डिप्टी सीएम के बारे में पता तक नहीं था। इससे साफ हो जाता है कि बच्चों को सिर्फ भीड़ बढ़ाने के लिये ही लाया गया था।

ये भी देखें:तेलंगाना राष्ट्र समिति के नेता नरसा रेड्डी और रामुलू नाइक कांग्रेस में शामिल

व्‍हाट्सएप पर भेजा गया फरमान

सूत्रों की मानें तो डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा के कार्यक्रम में भीड़ जुटाने के लिए यहां के डीआईओएस ने विभागीय व्‍हाट्सएप ग्रुप पर फरमान भेजा था कि पूरे जिले के प्रिंसिपल अपने स्कूल छात्र छात्राओं को डिप्टी सीएम के कार्यक्रम में पहुंचाना सुनिश्चित करें। ऐसे में अधिकारियों की तरफ से जब कोई लिखित आदेश नहीं पहुचा तो सभी प्रिंसिपल ने जिम्मेदारी की बात कहकर भेजने से इंकार कर दिया। लेकिन डिप्टी सीएम सहाब को खुश करने के लिए इलाके के सभी स्कूल के छात्र छात्राओं को लाया गया।

ये भी देखें:हद से ज्यादा करते हैं इंस्टाग्राम का इस्तेमाल, इस तरह करें कंट्रोल

sudhanshu

sudhanshu

Next Story