Top

कश्मीर: 370 पर लड़ पड़े उमर-महबूबा, दोनों को किया गया अलग

लड़ाई ज्यादा बढ़ने के बाद अब्दुल्ला को फॉरेस्ट डिपार्टमेंट के गेस्ट हाउस में शिफ्ट किया गया। मगर महबूबा अभी भी हरि निवास में रह रही हैं। मालूम हो, ये वहीं निवास है, जोकि पहले मुख्यमंत्री आवास के तौर पर इस्तेमाल किया जाता था।

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 12 Aug 2019 5:06 AM GMT

कश्मीर: 370 पर लड़ पड़े उमर-महबूबा, दोनों को किया गया अलग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 कमजोर कर दिया गया है। इसके बाद राज्य के हालात धीरे-धीरे सामान्य हो रहे है। मगर यहां पिछले कुछ समय से उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और फारुख अब्दुल्ला नजरबंद थे। इन सभी नेताओं को हरि निवास में रखा गया था। हालांकि, यहां उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के बीच झगड़ा हो गया। बात इतनी बिगड़ गयी कि उमर अब्दुल्ला को दूसरी जगह शिफ्ट किया गया।

यह भी पढ़ें: Bakrid 2019: अब दोस्तों को भेजिये Eid Mubarak Quotes, इस तरह करिए विश

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, दोनों नेताओं ने एक-दूसरे पर जम्मू-कश्मीर में बीजेपी को लाने का आरोप लगाया। यही नहीं, जब बात बहुत बढ़ गई, तब महबूबा पर चिल्लाते हुए उमर अब्दुल्ला ने चीखते हुए कहा कि उनके पिता ने ही 2015 से 2018 के बीच बीजेपी से साठ-गांठ की थी।

उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती के बीच जमकर हुई लड़ाई

इसके बाद महबूबा मुफ़्ती भी चुप नहीं बैठीं और उन्होने उमर अब्दुल्ला को याद दिलाया कि उनके पिता फारूख अब्दुल्ला ने अटल बिहारी वाजपेयी के साथ गठबंधन किया था। मुफ़्ती यही नहीं रुकीं, उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि उमर के दादा शेख अब्दुल्ला भी मौजूदा हालात के लिए ज़िम्मेदार हैं।

यह भी पढ़ें: मोदी का जंगल में राज: पीएम करेंगे बड़े खतरों का सामना, देखेंगे 180 देशों के लोग

लड़ाई ज्यादा बढ़ने के बाद अब्दुल्ला को फॉरेस्ट डिपार्टमेंट के गेस्ट हाउस में शिफ्ट किया गया। मगर महबूबा अभी भी हरि निवास में रह रही हैं। मालूम हो, ये वहीं निवास है, जोकि पहले मुख्यमंत्री आवास के तौर पर इस्तेमाल किया जाता था। मुख्यमंत्री होने पर गुलाम नबी आजाद यहां रहते थे। हालांकि, बाद में इसे गेस्ट हाउस में बदल दिया गया।

यह भी पढ़ें: Eid Mubarak: कुर्बानी का मतलब कुरान शरीफ में है खास, जरूरी नहीं है जीव हत्या

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story