Top

जेकेसीए घोटाला: फारूक से ED ने की पूछताछ, बचाव में उतरी महबूबा मुफ्ती

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता डॉ. फारूक अब्दुल्ला से प्रवर्तन निदेशालय ने आज पूछताछ की। जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन (जेकेसीए) में अनियमितताओं और घोटाले को लेकर यह पूछताछ की गई थी।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 31 July 2019 10:09 AM GMT

जेकेसीए घोटाला: फारूक से ED ने की पूछताछ, बचाव में उतरी महबूबा मुफ्ती
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जम्मू: जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता डॉ. फारूक अब्दुल्ला से प्रवर्तन निदेशालय ने आज पूछताछ की। यह पूछताछ जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन (जेकेसीए) में अनियमितताओं और घोटाले को लेकर की गई थी।

प्रवर्तन निदेशालय के चंडीगढ़ कार्यालय में फारूक अब्दुल्ला पहुंचे। जहां उनसे पूछताछ की गई। इस मामले में फारूक अब्दुल्ला से जनवरी में भी पूछताछ की जा चुकी है।

बता दें कि 113 करोड़ रुपये के इस घोटाले में कोर्ट के आदेश के बाद 2015 में सीबीआई ने केस दर्ज किया गया था। इसी को लेकर अब प्रवर्तन निदेशालय अब्दुल्ला से पूछताछ कर रहा है। मुख्यमंत्री रहते हुए फारूक अब्दुल्ला जम्मू कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष भी थे।

ये भी पढ़ें...जयंती विशेष : मुंशी प्रेमचंद ‘डार्क पीरियड़’ में पैदा हुआ भारत का गोर्की

क्रिकेट संघ ने किया करोड़ों का गबन

सीबीआई ने आरोपपत्र में दर्ज किया है कि बीसीसीआई ने 2002 से 2011 के बीच प्रदेश में क्रिकेट के प्रचार-प्रसार के लिए 112 करोड़ की राशि आवंटित की थी। इस राशि में से करीब 43.69 करोड़ रुपये के गबन का आरोप है। हालांकि, इस मामले के सामने आने के बाद ही फारूक अब्दुल्ला ने खुद को बेकसूर बताते हुए कहा था कि उनके खिलाफ राजनीतिक षड्यंत्र हो रहा है।

भ्रष्टाचार, पद का दुरुपयोग जैसे कई गंभीर आरोप लगे

जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला के साथ तत्कालीन महासचिव मोहम्मद सलीम खान, कोषाध्यक्ष अहसान अहमद मिर्जा और जे एंड के बैंक के एक कर्मचारी बशीर अहमद पर गबन के आरोप हैं। जम्मू-कश्मीर के नागरिक होने के कारण इन सभी पर रणबीर दंड संहिता के तहत भ्रष्टाचार, पद का दुरुपयोग, गबन और आपराधिक साजिश को अंजाम देने का आरोप है।

फारूक के बचाव में उतरी महबूबा मुफ्ती

इस मामले को लेकर पीडीपी नेता व पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जेके क्रिकेट घोटाला एक पुराना मामला है। इसकी काफी समय से जांच चल रही है। ईडी ने फारूक साहब से उस समय पूछताछ की है जब जम्मू-कश्मीर की मुख्यधारा की पार्टियां सामूहिक रूप से अपनी विशिष्ट पहचान की रक्षा के लिए खड़ी हैं।

ये भी पढ़ें...डोपिंग में फंसे युवा क्रिकेटर पृथ्वी शॉ, BCCI ने लिया ये बड़ा ऐक्शन

सोमवार को अदालत के सामने पेश की गई चार्जशीट

श्रीनगर की चीफ जुडिशल मजिस्ट्रेट (सीजेएम्) की अदालत के सामने सीबीआई ने सोमवार को जेकेसीए (जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन) के करोड़ों के घोटाले में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ फारूक अब्दुल्ला सहित 4 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट पेश की गई।

मिली जानकारी के अनुसार 8 हजार पन्नों की चार्जशीट में डॉ. फारूक आरोपियों की सूची में चौथे स्थान पर हैं और आरोपियों के खिलाफ आरपीसी की धारा 120-बी, 406 और 409 के तहत आरोप लगाए गए हैं।

सीबीआई ने उस समय रहे जेकेसीए अध्यक्ष डॉ. फारूक अब्दुल्ला, मोहम्मद सलीम खान (उस समय रहे जनरल सेक्टरी), एहसान अहमद मिर्जा (उस समय के खजांची) और बशीर अहमद (जम्मू कश्मीर बैंक में एग्जीक्यूटिव) के खिलाफ आपराधिक षड्यंत्र और विश्वास के आपराधिक उल्लंघन के आरोप लगाए हैं।

ये भी पढ़ें...31 जुलाई: इस माह का आखिरी दिन आपके लिए कैसा रहेगा, जानिए पंचांग व राशिफल

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story