Top

एमपी में बनेगी कमलनाथ की सरकार! फ्लोर टेस्ट पास करने के लिए लिया इसका सहारा

मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने शनिवार को शत्रु विनाशक यज्ञ का आयोजन किया। दरअसल, राज्य में कांग्रेस खेमे के 22 विधायकों के इस्तीफे के साथ ही खलबली मच गई है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 15 March 2020 10:46 AM GMT

एमपी में बनेगी कमलनाथ की सरकार! फ्लोर टेस्ट पास करने के लिए लिया इसका सहारा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

भोपाल: मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार में मंत्री पीसी शर्मा ने शनिवार को शत्रु विनाशक यज्ञ का आयोजन किया। दरअसल, राज्य में कांग्रेस खेमे के 22 विधायकों के इस्तीफे के साथ ही खलबली मच गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऐसे में राजनीतिक 'शत्रु' यानी दुश्मन को मिटाने के इरादे के साथ यह हवन-पूजन किया गया। मंत्री शर्मा ने यह पूरी पूजा विधि आगर-मालवा जिले में स्थित एक मंदिर में की। हालांकि, जब उनसे इस आयोजन को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।

हाल ही में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव 'सत्ता की देवी' कही जाने वाली बगलामुखी माता के मंदिर पहुंचे और पूजा-अर्चना की थी। आगर-मालवा जिले के नलखेड़ा में स्थित इस मंदिर की बगलामुखी माता को सत्ता की देवी कहा जाता है।

ये भी पढ़ें...इस दिन कमलनाथ का फ्लोर टेस्ट, MP की सत्ता में रहने के लिए देंगे अग्निपरीक्षा

ये भी पढ़ें...बड़ी खबर तब फेल हो जाएंगे महाराज, बच जाएगी कमलनाथ सरकार

राज्यपाल ने दे दिए हैं आदेश

उधर, मध्य प्रदेश का सियासी तूफान लगातार जोर पकड़ रहा है। राज्यपाल लालजी टंडन ने फ्लोर टेस्ट के आदेश दे दिए हैं। विधानसभा का बजट सत्र शुरू होने से पहले फ्लोर टेस्ट कराया जाएगा, जिसके लिए बीजेपी और कांग्रेस अपनी ताकत झोंकने के लिए तैयार हैं।

कांग्रेस ने अपने विधायकों को जयपुर से वापस बुला लिया है और सीएम कमलनाथ कैबिनेट की बैठक कर रहे हैं। यही नहीं, दिल्ली में बीजेपी आलाकमान की बैठक भी जारी है, जिसमें ज्योतिरादित्य सिंधिया भी हिस्सा ले रहे हैं।

सिंधिया समर्थक 6 मंत्री कमलनाथ कैबिनेट से बाहर, सरकार पर छाए संकट के बादल

16 पर नहीं लिया कोई फैसला

सिंधिया खेमे के इस्तीफा दे चुके कांग्रेस के 22 बागी विधायकों में से भी ज्यादातर बेंगलुरु में ठहरे हुए हैं। विधानसभा अध्यक्ष ने इन 22 विधायकों में से छह के त्यागपत्र शनिवार देर शाम को मंजूर कर लिए गए थे, जबकि 16 विधायकों के त्यागपत्र पर फिलहाल कोई निर्णय नहीं लिया है।

पुलिस ने कमलनाथ के मंत्रियों को किया गिरफ्तार, कांग्रेस ने लगाए ये गंभीर आरोप

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story