Top

कन्हैया ने CM नीतीश को दी नसीहत: कहा- CAA-NRC के खिलाफ लाया जाया प्रस्ताव

जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष और सीपीआई के नेता कन्हैया कुमार ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपील करते हुए नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) और एनपीआर (NPR) के विरोध में चल रहे प्रदर्शन के समर्थन में उतरने को कहा है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 1 Feb 2020 6:25 AM GMT

कन्हैया ने CM नीतीश को दी नसीहत: कहा- CAA-NRC के खिलाफ लाया जाया प्रस्ताव
X
कन्हैया ने CM को दी नसीहत: कहा- CAA-NRC के खिलाफ लाया जाया प्रस्ताव
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिहार: जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष और सीपीआई के नेता कन्हैया कुमार ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपील करते हुए नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) और एनपीआर (NPR) के विरोध में चल रहे प्रदर्शन के समर्थन में उतरने को कहा है। कन्हैया कुमार ने सीएम नीतीश से बिहार विधानसभा में इसके खिलाफ प्रस्ताव लाने को कहा है।

यह भी पढ़ें: PM मोदी के साथ बजट पर इतनी गुप्त होती है बैठक, मंत्री भी बाहर रखते हैं फोन

बिहार में रैलियों के दौरान सीएम नीतिश से की ये मांग

जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने बिहार के गोपालगंज और सीवान जिले में अपनी रैलियों के दौरान सीएम नीतीश से ये मांग की है। आपको बता दें कि कन्हैया कुमार पूरे बिहार में घूम-घूमकर 'जन गण मन यात्रा' निकाल रहे हैं। इसके अलावा कन्हैया संविधान बचाओ, देश बचाओ की अपील के साथ बिहार के कई जिलों का दौरा भी कर रहे हैं।

रैलियों का मकसद चुनावी फायदा लेने का नहीं- कन्हैया कुमार

इसके साथ ही कन्हैया कुमार ने अपनी एक रैली के दौरान कहा कि मैं यह साफ कर देना चाहता हूं कि इन रैलियों का मकसद किसी भी तरह से चुनावी फायदा लेने का नहीं है और न ही कोई राजनीतिक दल इस यात्रा को चला रहे हैं। कन्हैया कुमार ने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अपील की है कि इस संबंध में वो बिहार विधानसभा में एक प्रस्ताव पारित करें, जैसा कि अन्य प्रदेशों की विधानसभा में किया गया है।

यह भी पढ़ें: बजट 2020: मोदी सरकार के 6 साल के कार्यकाल में इनकम टैक्स में हुए ये बड़े बदलाव

जेडीयू-बीजेपी की साझा सरकार ने सीएए का किया था समर्थन

आपको बता दें कि नीतीश कुमार की नेतृत्व वाली जेडीयू-बीजेपी की गठबंधन सरकार ने संसद में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का समर्थन किया था। लेकिन पार्टी एनआरसी को असम के अलावा देश के किसी भी अन्य राज्य में लागू करने के खिलाफ है। इसके अलावा नीतीश कुमार ने राष्ट्रीय जनगणना रजिस्टर यानि NPR में उस कॉलम पर भी आपत्ति जताई है, जिसमें माता-पिता के जन्मस्थान का विवरण (description) देना है।

सीएए-एनआरसी को लेकर हर जगह हो रहें विरोध प्रदर्शन

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी के खिलाफ देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। प्रदर्शनकारी लगातार सीएए को वापस लेने की मांग कर रहे हैं और कई विपक्षी नेता इसे लोकतंत्र पर काला धब्बा बता चुके हैं। वहीं दूसरी ओर केंद्र सरकार ने भी इस कानून को वापस न लेने की बात कही है।

यह भी पढ़ें: बजट 2020 Live: निर्मला सीतारमण पेश कर रही ‘बजट’, आपके लिए ये सौगात…

Shreya

Shreya

Next Story