Top

कन्हैया कुमार की बढ़ी मुश्किलें, इस पुराने केस में चलेगा राजद्रोह का मुकदमा

दिल्ली सरकार ने राजद्रोह के एक मामले में दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के आरोप में पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार और दो अन्य लोगों पर मुकदमा चलाने के लिए दिल्ली पुलिस को मंजूरी दे दी।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 28 Feb 2020 3:18 PM GMT

कन्हैया कुमार की बढ़ी मुश्किलें, इस पुराने केस में चलेगा राजद्रोह का मुकदमा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: दिल्ली सरकार ने राजद्रोह के एक मामले में दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के आरोप में पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार और दो अन्य लोगों पर मुकदमा चलाने के लिए दिल्ली पुलिस को मंजूरी दे दी।

पुलिस ने 2016 के इस मामले में कुमार के साथ ही जेएनयू के पूर्व छात्रों उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था।

पुलिस ने कहा था कि आरोपियों ने नौ फरवरी, 2016 को जेएनयू परिसर में एक कार्यक्रम के दौरान जुलूस निकाला और वहां कथित रूप से लगाये गये देश-विरोधी नारों का समर्थन किया था। लंबे समय से यह फाइल दिल्ली सरकार के पास लंबित पड़ी थी।

इससे पहले, इस मामले पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने लंबे समय के बाद चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार और अन्य के खिलाफ राजद्रोह के मामले में अभियोजन की मंजूरी देने पर ‘जल्द फैसला’ करने लिए संबंधित विभाग को कहेंगे।

कन्हैया कुमार के जिले से आई बड़ी खबर, पकड़ा गया मास्टरमाइंड

3 अप्रैल तक रिपोर्ट दायर करने का था निर्देश

एक अदालत ने कुमार और अन्य के खिलाफ अभियोजन की मंजूरी देने के मुद्दे पर दिल्ली सरकार को तीन अप्रैल तक स्थिति रिपोर्ट दायर करने का निर्देश दिया। इसके कुछ घंटे बाद मुख्यमंत्री ने यह टिप्पणी की है। इस बारे में सवाल करने पर केजरीवाल ने पत्रकारों से कहा, संबंधित विभाग (गृह) के कामकाज में मेरी कोई भूमिका नहीं है।

कन्हैया कुमार पर टिप्पणी करने पर सेना सांसद राउत को निर्वाचन अधिकारी का नोटिस

जेएनयू परिसर में लगाये गये थे देश विरोधी नारे

पुलिस ने कन्हैया कुमार और जेएनयू के पूर्व छात्रों उमर खालिद तथा अनिर्बान भट्टाचार्य समेत अन्य लोगों के खिलाफ अदालत में 14 जनवरी को आरोपपत्र दाखिल किया और कहा था कि उन्होंने 9 फरवरी, 2016 को परिसर में एक समारोह में लगाये गये राजद्रोह के नारों का समर्थन किया और जुलूस निकाला था।

शरजील इमाम के बोल कन्हैया कुमार से भी ज्यादा खतरनाक: अमित शाह

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story