×

येदियुरप्पा की जा सकती है कुर्सी! 4 मार्च को फैसला, कर्नाटक में फिर सियासी नाटक

ऐसा कहा जाता है कि बीएस येदियुरप्पा की बढ़ती उम्र की वजह से पार्टी और लिंगायत समाज पर पकड़ कमजोर हुई है। बता दें कि अभी मुख्यमंत्री 78 वर्ष के हैं। वहीं, दूसरी ओर उनके विरोध उन्हें घेरने की तैयारियों में लगे हुए हैं।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 27 Feb 2021 6:58 AM GMT

येदियुरप्पा की जा सकती है कुर्सी! 4 मार्च को फैसला, कर्नाटक में फिर सियासी नाटक
X
येदियुरप्पा की जा सकती है कुर्सी! 4 मार्च को फैसला
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

बेंगलुरु: कर्नाटक में कई बार मुख्यमंत्री बी. एस. येदियुरप्पा (CM B.S. Yediyurappa) की कुर्सी पर खतरा मंडरा चुका है। इस बीच एक बार फिर से इस बात को हवा मिलने लगी है। बता दें कि इन दिनों राजधानी बेंगलुरु के फ्रीडम पार्क में लिंगायतों का एक धड़ा 15 फीसदी आरक्षण की मांग के साथ धरने पर बैठा हुआ है। वहीं, सीएम येदियुरप्पा के विरोधी इस मुहिम को हवा देने में लगे हुए हैं।

बीएस येदियुरप्पा का तलाशा जा रहा विकल्प?

ऐसे में चर्चा है कि बढ़ती उम्र के कारण कद्दावर लिंगायत नेता बीएस येदियुरप्पा का विकल्प तलाशा जा रहा है। वहीं, लिंगायतों की पंचमसाली उपजाति के एक बड़े धर्म गुरु बसवा मृत्युंजय स्वामी ने ये प्रण लिया है कि जब तक पंचमसालियों को शिक्षण संस्थानों और नौकरियों में 15 फीसदी आरक्षण नहीं दिया जाता है, वो मठ वापस नहीं जाएंगे। इसके साथ ही ये भी कि बी. एस. येदियुरप्पा सरकार इस मामले में चार मार्च तक अपना फैसला सुनाए।

यह भी पढ़ें: बंगाल में बवंडरः चुनाव प्रक्रिया पर सियासत शुरू, जानिए क्यों भड़का विपक्ष

YEDIURAPPA (फोटो- ट्विटर)

येदियुरप्पा की बढ़ी टेंशन

वहीं इस बीच येदियुरप्पा की टेंशन काफी ज्यादा बढ़ गई है। इसकी वजह ये है कि लिंगायतों की सौ के आसपास उप-जातियां हैं, जिसमें पंचमसाली सबसे बड़ी कहलाती है। लिंगायतों की आबादी में से 55 से 60 फीसदी पंचमसाली है, मलतब कृषक लिंगायतो की।

वहीं, मामले में पंचमसाली लिंगायत नेता मुर्गेश नीरानी ने कहा, यह लोग कृषक हैं। ये गांव में रहते हैं और आर्थिक तौर पर कमजोर हैं। ऐसे में करीब ढाई दशकों से हम इन लोगों के लिए आरक्षण की मांग कर रहे हैं। दूसरी ओर बीजेपी विधायक बसवण्णा गौड़ पाटिल यतनाल ने इस मुहिम को हवा देने का काम किया। दरअसल, उन्होंने कहा कि अगला मुख्यमंत्री कर्नाटक से ही होगा।

यह भी पढ़ें: राहुल के इस बयान से कांग्रेस में रार! G-23 के कई नेता पहुंच रहे हैं जम्मू, देंगे कड़ा संदेश

क्या उम्र बनी परेशानी की वजह?

ऐसा कहा जाता है कि बीएस येदियुरप्पा की बढ़ती उम्र की वजह से पार्टी और लिंगयत समाज पर पकड़ कमजोर हुई है। बता दें कि अभी मुख्यमंत्री 78 वर्ष के हैं। वहीं, दूसरी ओर उनके विरोध उन्हें घेरने की तैयारियों में लगे हुए हैं।

यह भी पढ़ें: सबसे बड़ी सियासी जंग: फिर ममता का होगा बंगाल या कामयाब होगी भाजपा की चाल

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story