Top

चुनाव परिणाम आने दें, पता चल जायेगा कि किसकी डूब रही नैया: राजनाथ

मायावती ने आज सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए लिखा, ‘‘इसका जीता जागता प्रमाण यह है कि (राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ) आरएसएस ने भी इनका साथ छोड़ दिया है, जिससे श्री मोदी के पसीने छूट रहे है।'

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 14 May 2019 10:12 AM GMT

चुनाव परिणाम आने दें, पता चल जायेगा कि किसकी डूब रही नैया: राजनाथ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नयी दिल्ली: मोदी सरकार के बारे में बसपा सुप्रीमो मायावती की टिप्पणी पर चुटकी लेते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि ‘जिनकी खुद की नैया डूबी हो, उन्हें दूसरों की नैया कहां से दिख गई, चुनाव परिणाम आने दें, उन्हें पता चल जायेगा।’

सिंह से बसपा प्रमुख मायावती की उस टिप्पणी के बारे में पूछा गया था जिसमें उन्होंने कहा आज कहा कि ‘‘पीएम श्री नरेंद्र मोदी की सरकार की नैया डूब रही है।’’

ये भी देंखे:विश्व कप का प्रबल दावेदार है भारत : अजहरूद्दीन

मायावती ने आज सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए लिखा, ‘‘इसका जीता जागता प्रमाण यह है कि (राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ) आरएसएस ने भी इनका साथ छोड़ दिया है, जिससे श्री मोदी के पसीने छूट रहे है।'

राजनाथ सिंह ने भाजपा मुख्यालय में संवाददाताओं से कहा, ‘‘ मायावतीजी को कहने दीजिए। चुनाव परिणाम आने दीजिए, पता चल जायेगा कि किसकी नैया डूबी है।’’

उन्होंने कहा कि जिनकी खुद की नैया डूबी है, खुद डूबे हैं... उन्हें कहां से यह दिख रहा है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा कि जहां तक आरएसएस का सवाल है, यह कोई राजनीतिक संगठन नहीं है, यह सामाजिक..सांस्कृतिक संगठन है।

उन्होंने कहा कि सपा और बसपा दोनों की आम लोगों में विश्वसनीयता काफी कम हुई है।

ये भी देंखे:सासाराम से मोदी ने विपक्षी दलों पर साधा निशाना, कहा- देश कह रहा है’ अब बहुत हुआ’

सिंह ने कहा कि विपक्षियों द्वारा ये दावा किया जा रहा है कि वो सरकार बनाएंगे लेकिन जनता इनसे पूछ रही है इनका नेता कौन है। उन्होंने कहा कि यह अज्ञात है।

उन्होंने कहा कि स्वस्थ लोकतांत्रिक व्यवस्था में जनता को अंधेरे में नहीं रखा जा सकता और जनता से लुका-छिपी का खेल नहीं होना चाहिए।

(भाषा)

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story