Top

मायावती को भतीजे पर भरोसा: आकाश आनंद का हुआ यूपी, दी ये बड़ी जिम्मेदारी

बहुजन समाजवादी पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने शनिवार को दिल्ली में हुई पार्टी बैठक के बाद भतीजे आनन्द को बड़ी जिम्मेदारी दी है।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 23 Feb 2020 4:58 AM GMT

मायावती को भतीजे पर भरोसा: आकाश आनंद का हुआ यूपी, दी ये बड़ी जिम्मेदारी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: बहुजन समाजवादी पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने यूपी की राजनीति समेत संगठनात्मक मजबूती के लिए कई बड़े फैसले लिए। बीते दिन (शनिवार ) को दिल्ली में हुई पार्टी बैठक के बाद मायावती ने भतीजे आनन्द को बड़ी जिम्मेदारी दी है। इसके साथ ही आगामी यूपी विधानसभा चुनाव बिना सपा के साथ गठबंधन किये जाने से भी इनकार कर दिया।

मायावती की अध्यक्षता में बसपा की बैठक में लिए गये अहम फैसले:

राजधानी दिल्ली में शुक्रवार को आयोजित बसपा की बैठक में मायावती की अध्यक्षता में कई बड़े फैसले लिए गये। इस दौरान बसपा प्रमुख ने उत्तर प्रदेश सहित सभी राज्यों की भंग चल रही प्रदेश इकाईयों के गठन की प्रक्रिया शुरू करने को कहा है। वहीं इस कार्य की निगरानी का जिम्मा दो वरिष्ठ नेताओं आकाश आनंद और रामजी गौतम को सौंपा गया है। बता दें कि आकाश आनन्द मायावती के भतीजे हैं।

ये भी पढ़ें: अमूल्या की हत्या पर मिलेंगे 10 लाख: पाकिस्तान समर्थन पड़ा भारी, हुआ ये ऐलान

भतीजे आकाश आनन्द को दी बड़ी जिम्मेदारी:

करीब दो घण्टे से ज्यादा चली बैठक में बसपा सांसद और विधायक समेत कई बड़े नेताओं ने हिस्सा लिया। इस मौके पर देश भर में जहां भी बसपा की प्रदेश इकाइयां भंग चल रही हैं, उन्हें दोबारा गठित करने का आदेश दिया गया। इस काम की जिम्मेदारी मायावती ने अपने भतीजे आनंद को दी है। जिनकी निगरानी में उत्तर प्रदेश की जिला और ब्लॉक स्तरीय इकाईयों का गठन होगा। वहीं रामजी गौतम को भी इसकी जिम्मेदारी मिली है।

ये भी पढ़ें: Ind vs NZ Day 3 Live Score: 348 रनों पर न्यूजीलैंड ऑलाउट, भारत 105 रन पीछे

यूपी में बसपा अकेले लड़ेगी चुनाव:

इस बैठक के बाद मायावती ने फैसला लिया कि यूपी में आगामी विधानसभा चुनाव 2022 बसपा अकेले लड़ेगी। समाजवादी पार्टी के साथ पिछले लोकसभा चुनाव की तरह गठबंधन नहीं करेगी। इसके अलावा मायावती ने कार्यकर्ताओं को चुनाव के मद्देनजर पार्टी के आन्दोलन को जमीनी स्तर पर मजबूत करने को कहा। बता दें कि इस बैठक में पार्टी के महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा के अलावा उत्तर प्रदेश के सभी बसपा सांसद और विधायक भी मौजूद थे।

ये भी पढ़ें: खुल गया राज! मायावती ने क्यों नहीं की शादी, एक क्लिक में जानें सच्चाई

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story